NewsUttar Pradesh

SC/ST एक्ट का विरोध करने वाले कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर हिरासत में, कुछ देर बाद किया रिहा

एसएसपी अमित पाठक का कहना है कि देवकीनंदन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था। भागवताचार्य ने कहा,'हम शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बात रख रहे थे। क्या लोकतंत्र में यह गुनाह है।

दीप्ति शर्मा
आगरा। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ समर्थकों के साथ आगरा पहुंचे कथावाचक व अखंड भारत एकता मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवकी नंदन ठाकुर को मंगलवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार ठाकुर पर पत्रकार वार्ता के दौरान ऐसे वक्तव्य देने का आरोप है, जिससे शांति भंग हो सकती है। न्यू आगरा थाना क्षेत्र में कमलानगर के एक होटल से कथावाचक की गिरफ्तारी हुई। गिरफ्तारी के कुछ घंटे बाद ही देवकीनंदन ठाकुर को रिहा कर दिया गया।

एससी/एसटी एक्ट को लेकर केंद्र सरकार ने पिछले दिनों विधेयक पारित किया है। इसके विरोध में छह सितंबर को भारत बंद के बाद खंदौली में महापंचायत हुई थी। अखंड भारत एकता मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवकी नंदन ठाकुर ने मंगलवार को खंदौली में जनसभा की अनुमति मांगी थी। प्रशासन ने अनुमति नहीं दी और जनसभा स्थल पर फोर्स तैनात कर दिया। देवकीनंदन ने अपनी बात रखने को दोपहर में रेस्टोरेंट में प्रेसवार्ता बुलाई।

पुलिस के अनुसार ये गिरफ्तारी शांति भंग की आशंका की धाराओं में गई। दरअसल, कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर की खंदौली में महापंचायत आयोजित थी। इस महापंचायत को पुलिस-प्रशासन ने रोक लगाई थी, लेकिन रोक के बाद भी ठाकुर अपनी बात रखने शहर के होटल में पहुंचे थे। मामले की भनक लगते ही पुलिस ने ठाकुर की गिरफ्तार कर लिया

सीओ अभिषेक फोर्स के साथ वहां पहुंचे और देवकीनंदन को हिरासत में ले लिया। इस पर समर्थकों में आक्रोश फैल गया। हंगामे की आशंका पर पुलिस-पीएसी की कई गाडिय़ां वहां पहुंच गईं। उन्हें एक घंटे तक रेस्टोरेंट में रोके रखा। पुलिस देवकी नंदन को पुलिस लाइन लाने लगी तो एक दर्जन से अधिक समर्थक भी जबरन पुलिस की गाड़ी में सवार हो गए। कई घंटे बाद पुलिस ने उन्हें समर्थकों के साथ छोड़ दिया।

एसएसपी अमित पाठक का कहना है कि देवकीनंदन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था। भागवताचार्य ने कहा,’हम शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बात रख रहे थे। क्या लोकतंत्र में यह गुनाह है। कोई सभा नहीं न कोई आयोजन और न ही प्रदर्शन। पुलिस प्रशासन का सहयोग करने की बात रात को ही बोल दी गई थी।

शांतिपूर्ण आंदोलन का आह्वान
देवकी नंदन ने प्रेसवार्ता में शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन का आह्वïान किया। समर्थकों से कहा कि सरकारी और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान न पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि सरकार के सामने शांतिपूर्ण तरीके से बात रखना चाहते हैं।

शंकराचार्य ने जताई आपत्ति
एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे भागवत प्रवक्ता देवकीनंदन ठाकुर की गिरफ्तारी पर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने आपत्ति जताई है। तीर्थनगरी के संत व विप्र समाज में उबाल है। विप्रों ने आंदोलन को धार देने की रणनीति बनाने का एलान किया है। जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि जो भी सरकार में आता है वही करता जो पिछली सरकार ने किया। हमें मोदी योगी से आशा थी पर कुछ नहीं हुआ। इधर राष्ट्रीय विप्र स्वाभिमान महासंघ के संयोजक काष्र्णि नागेंद्र महाराज ने कहा कि सरकार जिस तरह से आंदोलन को दबाने का कुचक्र चल रही है, सफल नहीं हो सकेगी।

प्रशासन पर मनमानी का आरोप लगाते हुए कहा कि सभा की अनुमति नहीं दी। उन्होंने खुला ऐलान किया कि एससी एसटी एक्ट के खिलाफ आंदोलन जारी रहेगा। भागवताचार्य ने सरकार को दो माह का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जैसा था वैसा हो जाए, नहीं तो कड़ा आंदोलन चलाएंगे। तभी भारी संख्या में पहुंचे पुलिस बल ने देवकी नंदन को हिरासत में ले लिया।

राजनीति में आने के संकेत
कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर के इस कदम को उनके राजनीति में आने के संकेतों से भी जोडा जा रहा है। एससी/एसटी में संशोधन के खिलाफ वे पिछले कई दिनों से मुखर हैं। चंद दिन पहले मध्‍यप्रदेश के ग्‍वालियर में भी इस मामले में खुला विरोध प्रदर्शित कर के आए थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close