NewsPoliticsUttar Pradesh

PM मोदी व CM योगी किसानों की आर्थिक उन्नति के लिए दृढ़ संकल्पित है : स्वामी प्रसाद मौर्य

प्रदेश में चीनी के रिकार्ड उत्पादन कर प्रदेश ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है और गन्ना मूल्य का भुगतान 14 दिन के अन्दर किये जाने की व्यवस्था की गयी है।

शादाब हुसैन
बहराइच। नवाबगंज बहराइच नवाबगंज क्षेत्र स्थित बाबा मंगल नाथ शिव मंदिर के परिसर में भाजपा की ओर से किसान कल्याण सम्मेलन का आयोजंन किया गया। जिसके मुख्य अतिथि प्रदेश के माननीय स्वामी प्रसाद मौर्य प्रभारी मंत्री उत्तर प्रदेश शासन रहे। स्वामी प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में किसान चौपाल का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भारत सरकार द्वारा नामित नोडल अधिकारी संयुक्त निदेशक राष्ट्रीय पशु स्वास्थ्य संस्थान बागपत, उप निदेशक कृषि डा. आर.के. सिंह, उपायुक्त मनरेगा शेष मणि सिंह, उप जिलाधिकारी सिद्धार्थ यादव, तहसीलदार नानपारा मधुसूदन, जिला कृषि अधिकारी राम शिष्ट सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी, भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी गुलाब चन्द्र शुक्ला, संचित सिंह, परशुराम कुशवाहा सहित अन्य संभ्रान्तजन व बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।

चौपाल को सम्बोधित करते हुए उप निदेशक कृषि डा. आर.के. सिंह ने बताया कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री द्वारा देश में नीति आयोग का गठन कर पूरे देश का सर्वे कराकर सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षिक रूप से अति पिछड़े जनपदों का चयन किया गया जिसमें उत्तर प्रदेश के बहराइच सहित 08 जनपद शामिल हैं। उन्होंने कहा कि आकांक्षात्मक जनपद बहराइच में कृषि कल्याण कार्यक्रम के अन्तर्गत जिले के अत्यन्त पिछड़े 25 ग्रामों में ग्राम महरू का चयन होने से इस क्षेत्र का विकास तेज़ी के साथ हो सकेगा।

मंत्री ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ किसानों की आर्थिक उन्नति के लिए दृढ़ संकल्पित है। भारत सरकार का सपना है कि वर्ष 2022 तक देश की आमदनी में दोगुना का इज़ाफा हो जाय। उन्होंने कहा कि इसके लिए केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा अनेकों योजनाएं किसानों के हित में संचालित की जा रही हैं। मौर्य ने कहा कि ऐसे आयोजनों के माध्यम से गाॅव के आॅगन में ही कृषि व उसके अन्य सहयोगी विभागों द्वारा औद्यानिक खेती, गन्ना, पशुपालन, रेशम कीट पालन, मधुमक्खी पालन, मशरूम उत्पादन इत्यादि की नवीनतम् तकनीक की जानकारी उपलब्ध कराये जाने से जहाॅ इस क्षेत्र का विकास तेज़ी के साथ होगा वहीं किसानों को आत्मस्वावलम्बी बनने तथा अपनी आय को दोगुना करने में मदद मिलेगी।

प्रभारी मंत्री ने कहा कि जब तक किसान खुशहाल नहीं होंगे समृद्ध भारत की कल्पना नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि किसानों की खुशहाली तथा देश को समृद्ध के मार्ग पर ले जाने के लिए केन्द्र सरकार ने ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए वर्ष 2018-19 के लिए खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य को किसानों की लागत से डेढ़ गुणा या उससे अधिक देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि फसली ऋण माफी जैसी महत्वाकांक्षी योजना के तहत रिकार्ड 86 लाख लघु एवं सीमांत किसानों का ऋण माफ किया गया है जबकि प्रदेश में चीनी के रिकार्ड उत्पादन कर प्रदेश ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है और गन्ना मूल्य का भुगतान 14 दिन के अन्दर किये जाने की व्यवस्था की गयी है।

किसानों का बोझ कम करने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, खलिहान अग्निकांड दुर्घटना सहायता योजना, व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजनाओं को संचालित कर किसानों को विभिन्न आपदाओं से सुरक्षा प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा उर्वरक की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करायी गयी है अब किसानों को खाद के लिए घण्टों लाइन में खड़े होकर इन्तज़ार नहीं करना पड़ता है।
किसान चौपाल को भाजपा पदाधिकारी व प्रगतिशील कृषक परशुराम कुशवाहा व संचित सिंह ने भी सम्बोधित करते हुए किसानों का आहवान्ह किया कि कृषि फसलों के साथ अधिक से अधिक औद्यानिक फसलों की खेती कर अपनी आय में इज़ाफा करने का सुझाव दिया। किसान चौपाल के दौरान 09 कृषकों को कृषि यन्त्रों के चयन पत्र, 13 किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड, 100 कृषकों को सब्ज़ी बीज मिनी किट का वितरण मुख्य अतिथि द्वारा किया गया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close