NewsUttar Pradesh

IPS अब छुएगा सिपाही के पैर क्योंकि पिता है सिपाही!

जनार्दन सिंह गर्व से कहते हैं कि वह ऑन ड्यूटी कप्तान को सैल्यूट करेंगे। आईपीएस अनूप सिंह कहते हैं कि वह घर पर पिता के पैर छूकर आशीर्वाद लेंगे, लेकिन फर्ज निभाने के दौरान वे प्रोटोकाल का पालन करेंगे।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ के विभूति खंड थाने में तैनात सिपाही जनार्दन सिंह का बेटा अनूप सिंह आईपीएस तो बन ही गया था अब उन्हें इस बात की खुशी है कि उनका बेटा लखनऊ में ही पोस्टेड हो गया है। यानि पिता अब अपने बेटे के मातहत काम करेंगे जिसे लेकर वो बेहद खुश हैं। उन्नाव से तबादले पर लखनऊ के एएसपी (उत्तरी) बनाए गए आईपीएस अनूप सिंह के पिता जनार्दन विभूतिखंड थाने में सिपाही के पद पर तैनात हैं।

सिपाही जनार्दन सिंह।

बेटे के मातहत के रूप में काम करने में कितना सहज होगा, इस पर जनार्दन सिंह गर्व से कहते हैं कि वह ऑन ड्यूटी कप्तान को सैल्यूट करेंगे। जनार्दन सिंह ने बताया कि बेटा बहुत ही सख्त और ईमानदार है। वहीं आईपीएस बेटे अनूप सिंह का कहना है कि वह घर पर पिता के पैर छूकर आशीर्वाद लेंगे लेकिन, फर्ज निभाने के दौरान प्रोटोकाल का पालन करेंगे।

सिपाही जनार्दन सिंह अपने आईपीएस पुत्र अनूप सिंह के साथ।

जनार्दन सिंह मूल रूप से बस्ती के रहने वाले हैं और नौकरी के सिलसिले में अलग-अलग जिलों में रहे उनके बेटे की प्रारंभिक शिक्षा बाराबंकी में हुई है।जनार्दन सिंह ने कहा कि वह अपने परिवार के साथ गोमतीनगर के अपने घर पर रहेंगे। बेटा अधिकारी है, इसलिए वह अपने सरकारी आवास में रहेगा।

जनार्दन सिंह के मुताबिक दिल्ली स्थित जेएनयू विवि में अच्छे अंक पाने पर बेटे को स्कॉलरशिप मिलती थी। अपने सीमित खर्च के चलते मना करने के बाद भी बेटा स्कॉलरशिप के रुपए भी घर भेज देता था। जनार्दन सिंह ने बताया कि परिवार में उनकी पत्नी कंचन सिंह, बेटी मधु और बहू अंशुल है। वह परिवार के साथ विक्रांत खंड स्थित अपने घर पर रहेंगे। बेटा अधिकारी है, इसलिए वह अपने सरकारी आवास में रहेगा।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close