NewsPoliticsUttar Pradesh

CM योगी से मिलने के बाद विवेक की पत्‍नी बोलीं, ‘सरकार पर विश्‍वास और बढ़ा’

उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा खुद कल्पना तिवारी और उनके भाई विष्णु शुक्ला को लेकर कालीदास मार्ग स्थित सीएम आवास पहुंचे थे।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर में पुलिसवाले की गोली से मारे गए विवेक तिवारी के परिवार ने सोमवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ उप मुख्‍यमंत्री दिनेश शर्मा भी मौजूद रहे। सीएम योगी से मुलाकात के बाद विवेक की पत्‍नी कल्‍पना तिवारी ने कहा कि मुख्‍यमंत्री ने हमारी बातें गंभीरता से सुनीं और हमें मदद का आश्‍वासन दिया। सीएम ने विवेक के दोनों बेटियों प्रियांशी और दिव्यांशी से भी मुलकात की और उनकी पढ़ाई के इंतजाम का वादा किया। वहीं, मुलाकात के बाद डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने विवेक की मां और बच्चों के नाम से फिक्सड डिपॉजिट करने की भी घोषणा की। उन्‍होंने कहा की राज्‍य सरकार पर मेरा विश्‍वास पहले से ही था, लेकिन अब यह विश्‍वास और अधिक मजबूत हो गया है।

बता दें कि उप मुख्‍यमंत्री दिनेश शर्मा ने रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से विवेक तिवारी की पत्नी कल्‍पना की फोन पर बात कराई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उन्‍हें सोमवार सुबह मिलने का वक्त दिया था। खुद डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा विवेक के परिवार को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से मिलवाने ले गए।

वहीं लखनऊ में हुए विवेक तिवारी हत्‍याकांड में विवेक के परिवारवालों ने नई एफआईआर दर्ज कराई है। विवेक तिवारी के परिवार ने अब जो नई एफआईआर दर्ज कराई है उसमें आरोपी पुलिसवालों को नामजद कराया गया है। इससे पहले परिवारवालों ने मामले में अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। बता दें कि रविवार को विवेक तिवारी का लखनऊ के बैकुंठ धाम में अंतिम संस्‍कार किया गया था।

रविवार को लखनऊ के गोमतीनगर थाने में परिवार की ओर से दर्ज कराई गई नई एफआईआर में विवेक तिवारी को पास से गोली मारने की बात कही गई है। इससे पहले वाली एफआईआर में गोली चलने की आवाज सुनाई देने की बात कही गई थी। पहली एफआईआर विवेक तिवारी के ऑफिस की दोस्‍त और प्रत्‍यक्षदर्शी सना ने लिखवाई थी। इस बार यह दूसरी एफआईआर विवेक की पत्‍नी कल्‍पना ने लिखवाई है।

नई एफआईआर में लिखा है कि आरोपी सिपाही प्रशांत ने विवेक तिवारी को मारने के उद्देश्य से कार के शीशे से पिस्‍टल सटाकर फायर किया। नई एफआईआर में लिखा है कि सना को ना ही किसी का फोन उठाने दिया जा रहा था और ना ही किसी को कॉल करने दिया जा रहा था और पुलिस ने सादे कागज में साइन भी करवाया था। एफआईआर में जिक्र किया गया है कि एक सिपाही डंडा लिए हुआ था।

मालूम हो कि कल्पना तिवारी ने योगी आदित्यनाथ से मिलने की इच्छा जाहिर की थी। साथ ही बेटियों की सुरक्षा को लेकर भी चिंता व्यक्त की थी। उन्होंने कहा था कि वह खुद योगी से मिलेंगी और अपनी बात कहेंगी। जिसके बाद सीएम ने ने रविवार को उन्हें फोन कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था और कहा था कि वे जब चाहें उनसे मिल सकती हैं।

वहीं, कल्पना तिवारी से मुलाकात के बाद सीएम योगी ने प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी ओपी सिंह से विवेक हत्याकांड मामले में अब तक हुई जांच की प्रगति रिपोर्ट तलब की है।

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने बताया कि प्रदेश सरकार शुरू से ही पीड़ित परिवार के साथ है। विवेक के परिजन सीएम योगी से मिलना चाह रहे थे, इसीलिए आज उनकी मुलाकात करवाई गई। दिनेश शर्मा ने कहा कि सीएम योगी चाहते हैं कि बच्चों की पढ़ाई में किसी तरह की दिक्कत न आए, इसके लिए बच्चों के नाम से 25 लाख की फिक्सड डिपॉजिट (एफडी) सरकार करेगी। वहीं, विवेक की मां के नाम भी पांच लाख रुपये की एफडी कराई जाएगी।

सीसीटीवी फुटेज में सामने आया सिपाहियों का सफेद झूठ
विवेक हत्याकांड की जांच में लगी टीम को काफी अहम सीसीटीवी फुटेज मिले हैं। गोमतीनगर इलाके में जहां ये घटना हुई थी, वहां आसपास एक बिल्डिंग में लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला गया तो सिपाहियों का सफेद झूठ सामने आ गया।

आरोपी सिपाही प्रशांत चौधरी ने बताया था कि सीएमएस स्कूल के पास गाड़ी खड़ी थी, तब उसने और संदीप ने मामला संदिग्ध समझकर विवेक और उनकी सहकर्मी सना से पूछताछ करनी चाही थी। आरोप है कि इसी बात पर विवेक ने सिपाहियों पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की। लेकिन, अब आरोपियों का ये झूठ पकड़ा गया है। सीसीटीवी फुटेज में रात 1:19 बजे विवेक की एसयूवी सड़क पर जाती हुई दिख रही है।

वहीं इस मामले में यूपी पुलिस के अधिकारियों के रवैये पर सवाल उठ रहे हैं। आरोप है कि पुलिस के कुछ आला अधिकारी आरोपी पुलिसवालों को बचाने के लिए पूरे मामले की लीपापोती में जुटे हैं। ये बात खुद यूपी के क़ानून मंत्री ब्रजेश पाठक भी मान रहे हैं। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि ऐसे अधिकारियों के खिलाफ भी जांच की जा रही है और दोषी पाए जाने पर उनके खिलाफ भी सख़्त कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल दोनों आरोपी पुलिसवाले सलाखों के पीछे हैं। शुक्रवार आधी रात को हुए इस हत्याकांड का सीसीटीवी फुटेज़ भी सामने आया है। जो विवेक तिवारी को गोली मारे जाने से कुछ ही मिनट पहले का है। इन तस्वीरों में विवेक तिवारी की कार और पुलिस की मोटरसाइकिल दिख रही है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close