NewsUttar Pradesh

2019 लोकसभा चुनाव से पहले गांवों को पूर्ण संतुष्टि देने की जरूरत : CM योगी आदित्यनाथ

सौरभ शुक्ला
कानपुर नगर। प्राकृतिक आपदा से प्रभावित क्षेत्रों की जानकारी लेने कानपुर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पार्टी के सांसद-विधायकों और पदाधिकारियों से 2019 लोकसभा चुनाव के लिए जुटने को कह गए। शनिवार को सर्किट हाउस में समीक्षा से पहले और कैंट स्थिति सिविल एयरपोर्ट पर उन्होंने जनप्रतिनिधियों से कई बार बात की। कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव से पहले गांवों को पूर्ण संतुष्टि देने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि ग्राम स्वराज अभियान के तहत जो गांव चुने गए हैं, उनमें केंद्र और प्रदेश सरकार की जो योजनाएं हैं, उनका लाभ यहां के लोगों को मिल जाना चाहिए। यह काम समय से हो रहा है कि नहीं, इसकी मानीटरिंग के लिए उन्होंने सांसद देवेंद्र सिंह भोले और सभी विधायकों को निर्देशित किया। पदाधिकारियों से कहा कि जिन कार्यकर्ताओं को इस अभियान में लगाया गया है, उनसे हर गांव की पूरी रिपोर्ट लेते रहें। प्रदेश सरकार और प्रदेश इकाई को भी इससे अवगत कराते रहें। उन्होेंने सबसे पहले कैबिनेट मंत्री सतीश महाना से पूरे क्षेत्र की जानकारी ली, उसके बाद बैठक शुरू की। कम समय के बावजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सांसद देवेंद्र सिंह भोले और विधायकों से अलग बात की। सभी ने अपने क्षेत्र को लेकर चर्चा की। साथ में योजनाओं का किस तरह से प्रचार किया जा रहा है, इसकी भी जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी जिस समय सर्किट हाउस में आपदा राहत को लेकर बैठक कर रहे थे, तभी सांसद भोले ने अपने लोकसभा क्षेत्र के किसी गांव में बिजली की समस्या मुख्यमंत्री के सामने रखनी चाही, इस पर मुख्यमंत्री ने उन्हें टोकते हुए कहा कि यह बैठक आपदा राहत को लेकर हो रही है, कोई दूसरा विषय इस समय न उठाया जाए। इस मौके पर महापौर प्रमिला पांडेय, विधायक अरुण पाठक, विधायक अभिजीत सिंह सांगा, नीलिमा कटियार, क्षेत्रीय इकाई के महामंत्री संगठन ओमप्रकाश श्रीवास्तव, कमलरानी वरुण, सुुुरेंद्र मैथानी, सुरेश अवस्थी, अनीता गुप्ता सहित कई पदाधिकारी मौजूद रहे।

आपदा प्रभावित क्षेत्रों के लिए 50 लाख जारी
मुख्यमंत्री को बैठक में जानकारी दी गई कि तूफान से जिले में 1976 खम्भे क्षतिग्रस्त हुए हैं जिनमें कानपुर शहर के 217 खम्भे शामिल है। तूफान से हुए नुकसान को ठीक करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा राहत आपदा कोष से 50 लाख रुपए जारी किए गए है।

आपदा प्रभावित क्षेत्रों में वसूली पर रोक
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि तूफान से हुई तबाही के चलते जो क्षेत्र इसमें अधिक प्रभावित हुए हैं वहां वसूली के कार्य पर फिलहाल रोक लगा दी जाए। इसके अलावा उन्होंने कहा कि जिन ग्रमीण इलाकों में तूफान के चलते बिजली संकट पैदा हुआ है उन्हें सात दिनों में ठीक करा दिया जाए।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close