IndiaNewsWorld

1 दिन के लिए ब्रिटेन की राजदूत बनी भारतीय इशा बहल , जीती ये खास प्रतियोगिता

भारत की इशा बहल ने भारत में ब्रिटेन की हाई कमिश्नर के तौर पर एक दिन के लिए काम किया। ब्रिटिश दूतावास ने लड़कियों के लिए एक खास प्रतियोगिता का आयोजन किया था जिसे नोएडा यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली छात्रा ने जीता।

नेहा पाठक
नई दिल्ली। नोएडा यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान की एक छात्रा बीते सोमवार 8 अक्टूबर को 24 घंटे के लिए भारत में ब्रिटेन की हाई कमिश्नर यानी राजदूत के पद पर रहीं। 11 अक्टूबर को होने वाले अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के आयोजन से जुड़ी एक प्रतियोगिता में इशा बहल का चयन हुआ था। एक खास सोशल मीडिया पोस्ट के लिए उन्हें यह सम्मान दिया गया। इसमें इशा बहल का चयन किया गया। महिला शक्ति के सम्मान देते हुए भारत की इशा बहल को एक दिन के लिए भारत में ब्रिटेन का राजदूत बनने का मौका दिया गया।

सोमवार को इशा दिनभर भारत में ब्रिटेन के राजूदत के रूप में काम करती रहीं। ब्रिटेश हाई कमिशन ने 18 से 23 साल के बीच की लड़कियों के बीच एक प्रतियोगिता का आयोजन किया था। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली लड़कियों को एक वीडियो प्रजेंटेशन के जरिए बताना था कि उनके लिए जेंडर इक्वेलिटी यानी लैंगिक समानता का क्या मतलब है।

इसके तहत प्रतिभागी को एक विडियो प्रेजेंटेशन देकर बताना था कि उनके लिए जेंडर क्वॉलिटी का मतलब क्या है। इसी प्रतियोगिता में नोएडा के ऐमिटी यूनिवर्सिटी में पॉलिटिकल साइंस की स्टूडेंट इशा बहल विजेता बनीं। इसमें देशभर से 58 प्रतिभागियों ने भाग लिया था। इस मौके पर इशा बहल ने कहा कि उन्हें जो मौका मिला, वह बेहद खास है। एक दिन राजदूत बनने के क्रम में उसने जाना कि भारत और ब्रिटेन के संबध कितने गहरे हैं। ब्रिटिश हाई कमिश्नर डोमिनिक एस्क्विथ ने कहा कि वह इशा से बहुत प्रभावित हैं। सोमवार को वह डेप्युटी कमिश्नर के रूप में काम कर रहे थे।

इशा ने चार्ज लेने के बाद सोमवार को कई मीटिंग लीं और कुछ जगहों का दौरा भी किया। इसी क्रम में वह बतौर ब्रिटिश हाई कमिश्नर गुरुग्राम भी गईं और वहां चल रहे प्रॉजेक्ट का मुआयना किया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close