CrimeNewsUttar Pradesh

समाजवादी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक ने कहा कि मेरठ पुलिस पर नहीं भरोसा

सपा पूर्व प्रवक्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश के डीजीपी से यह मांग है हमें मेरठ के पुलिस पर भरोसा नहीं है। डीजीपी इसकी अपने स्तर से जांच कराएं और आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेंजे।

हिमानी बाजपेई
लखनऊ। समाजवादी की पूर्व प्रवक्ता
व सोशल ऐक्टिविस्ट पंखुड़ी पाठक पर 6 अक्टूबर को जानलेवा हमला हुआ था। जिसमें वह बाल-बाल बचीं। इस बारे में बुधवार को पंखुड़ी पाठक ने लखनऊ हजरतगंज स्थित प्रेस क्लब में प्रेस कांन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि मेरठ पुलिस द्वारा किए एनकाउंटर में मारे गए नौशाद और मुस्तकीम के घर गई थी। इस दौरान पंखुड़ी पाठक ने आरोप लगाया कि बजरंग दल के सदस्यों ने शनिवार को उन पर हमला किया।
और अभी भी बजरंग दल द्वारा मारने की धमकी मिल रही है।

पंखुड़ी ने कहा कि हम लोग यूपी के फेक एनकाउंटर का मुद्दा उठा रहे थे। अभी विवेक तिवारी की लखनऊ में हत्या हुई। उसका मुद्दा भी हमने उठाया। अलीगढ़ में लाइव एनकाउंटर हुआ। दो युवकों को घर से उठाया गया फिर मीडिया के सामने एनकाउंटर किया गया। युवकों के परिवार वालों को नज़रबंद करके रखा गया है। अलीगढ़ अतरौली में बजरंगदल के गुंडों ने कई लोगों को वहां पीटा।

पंखुड़ी पाठक इस बात को लेकर उनके ऊपर बजरंग दल द्वारा 50 से 60 गुंडों ने हमला कर दिया। हमले के दौरान पंखुड़ी पाठक अपनी जान बचाकर वहां से निकली। पंखुड़ी पाठक का कहना है कि हमारे ऊपर एक तरफ हमला हो रहा था तो मेरठ पुलिस वहां सेल्फी ले रही थी कहीं ना कहीं मेरठ पुलिस को यह पता था कि हमारे ऊपर जानलेवा हमला होगा। क्योंकि आसपास आला अधिकारी मौजूद थे, लेकिन हमारी मदद को कोई नहीं आया।

हम लोग जब अतरौली पहुंचे तो वहां बजरंग दल के गुंडे पहले से मौजूद थे। उन्होंने कहा कि जब हम लोग वहां से निकले तो पीछे से हमारे साथियों पर हमला हुआ। किसी तरह मैं जान बचा कर अपनी गाड़ी तक पहुंची। मेरी हत्या करने की कोशिश में हमला किया गया।

पंखुड़ी ने आरोप लगाया कि यह हमला पूर्व नियोजित था। क्या उत्तर प्रदेश पुलिस, योगी आदित्यनाथ और पुलिस महानिदेशक में इन लोगों को गिरफ्तार करने की हिम्मत है। बता दें कि बीते दिनों पंखुड़ी ने सपा के प्रवक्ता पद से अपना नाता तोड़ लिया था।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close