NewsPoliticsUttar Pradesh

व्यापारी व सपा नेता अभिमन्यु गुप्ता की नज़रबंदी से व्यापारियों में आक्रोश

व्यापारी नेता अभिमन्यु गुप्ता की नज़रबंदी से व्यापारियों में आक्रोश। उनके घर के दरवाजे पे धरना दिया ज्ञापन देने की ज़िद पे अड़े रहे व्यापारी। कहा ये लोकतंत्र की हत्या है आपातकाल जैसी स्तिथि है।

सिमरन गुप्ता
कानपुर नगर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कानपुर दौरे से एक दिन पहले व्यापारी व सपा नेता अभिमन्यु गुप्ता को उनके घर पे पुलिस बल द्वारा नजरबंदी से नाराज़ कानपुर के व्यापारी उनके साथ आज उनके घर पे हाथों पे काली पट्टी बांध के ही धरने पे बैठ गए और तानाशाही नहीं चलेगी लोकतंत्र की हत्या बन्द करो व्यापारियों की आवाज़ मटी दबाओ के नारे लगाए गए। प्रान्तीय व्यापार मण्डल के प्रदेश अध्यक्ष और समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता व्यापारियों के साथ हो रही लूटपाट,अपराध,कानपुर में प्रदूषण की भयावह स्तिथि और रेलवे की लापरवाही से व्यापारी संजय अग्रवाल की हुई मौत समेत विभिन व्यापारिक मुद्दों पे मुख्यमंत्री को ज्ञापन देना चाहते थे अन्यथा उन्होंने ऐलान किया था कि व्यापारी शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री का ध्यान इन गंभीर मुद्दों के प्रति आकर्षित करेंगे।पर कानपुर पुलिस 4 जून को ही उनके घर दलबल के साथ पहुँच गई और उनको मुख्यमंत्री की मौजूदगी तक पुलिस की निगरानी में घर से न निकलने का निर्देश दे गई।

इस नज़रबंदी को व्यापारी लोकतंत्र की हत्या और योगी आपातकाल बताते हुए अभिमन्यु गुप्ता के निवास पे ही ज़मीन पे बैठ गए। व्यापारियों की बड़ी भीड़ जुटते देख पुलिस ने उनके निवास पे प्रवेश भी रोक दिया। धरना देते हुए अभिमन्यु गुप्ता ने बताया की वे मुख्यमंत्री से कानपुर में प्रदूषण की विक्राल और भयावह समस्या से निपटने के लिए माँगपत्र देकर सरकार से प्रभावी कदम चाहते थे क्योंकि इस समस्या से पूरा कानपुर खतरे में जी रहा है और व्यापारी समाज अपने परिवार की सुरक्षा के लिए चिंतित है।कानपुर इतना टैक्स देता है तो कानपुर के व्यापारियों को पूरा अधिकार है कि वे अपनी बात अपने मुख्यमंत्री तक पहुंचाएं।साथ ही अभिमन्यु गुप्ता ने बताया कि रेलवे की लापरवाही से आनंदपुरी के व्यापारी संजय अग्रवाल की मौत हो गई और उनके परिजन अभिमन्यु गुप्ता से मिले और बताया कि अभी तक रेल मंत्रालय ने कोई कार्यवाही नहीं की।इस मुद्दे पे अभिमन्यु गुप्ता मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप की माँग करना चाहते थे क्योंकि यह भाजपा की केंद्र सरकार,प्रधानमंत्री,रेलमंत्री की संवेदनहीनता और विफलता उजागर करने वाला हादसा था और इसमें मृतक के परिवार को 1 करोड़ रुपये मुआवजा अभिमन्यु गुप्ता दिलवाना चाहते हैं।साथ ही आए दिन कानपुर में अपराध,लूटपाट,पुलिस बनकर ही व्यापारियों से हो रही लूटपाट के मुद्दे पे भी वे मुख्यमंत्री को ज्ञापन देना चाहते थे क्योंकि इन वजहों से पूरा कानपुर दहशत में था। साथ ही हज पे लग रही जीएसटी को प्रदेश सरकार माफ करे इस बात का ज्ञापन भी व्यापारी देना चाहते थे। अभिमन्यु ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री से मिलने का समय नहीं दिया जाता तो वे शान्तिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने के हकदार हैं।अभिमन्यु ने बताया कि ये उनका मौलिक और लोकतांत्रिक अधिकार है जो सरकार बल के दम पे दबाना चाहती है। व्यापारियों की ज़िद पे प्रशासन ने एसीएम 5 कानपुर नगर को भेज मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन अभिमन्यु गुप्ता के निवास से लिया।धरने में हरप्रीत सिंह बब्बर,संजय बिस्वारी,मनोज सोनी,पारस गुप्ता,अभिलाष द्विवेदी,अतुल अवस्थी,बॉबी सिंह,जितेंद्र सिंह संधू,शब्बीर अंसारी, अमर सोनी, ज़फ़र अहमद,संजय कुमार,नगर अध्यक्ष शुभम जेटली,ग्रामीण अध्यक्ष विनय कुमार,आतम जीत सिंह,मुकेश कनौजिया,अंकुर गुप्ता,सुखबीर सिंह,संजय गुप्ता,जितेंद्र लाम्बा आदि मुख्य थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close