IndiaKanpurNews

लड़के ने मां की इच्छा पूरी करने के लिए बना था IPS, अब बने छत्तीसगढ़ DGP

मां का सपना और उसे पूरा करने की नसीहत के साथ पिता की शिक्षा ने उन्हें न केवल सफल आइपीएस अफसर बनाया बल्कि पूरे देश में ख्याति दिलाई।

दिव्या पाण्डेय/अंकिता सिंह
कानपुर नगर। बीएनएसडी इंटर कालेज के छात्र दुर्गेश माधव अवस्थी आज छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक बन गए। मां का सपना और उसे पूरा करने की नसीहत के साथ पिता की शिक्षा ने उन्हें न केवल सफल आइपीएस अफसर बनाया बल्कि पूरे देश में ख्याति दिलाई। यह मां का ही सपना था कि शुगर मिल में इंजीनियर के रूप में तैनाती के दौरान ही सिविल सेवा की तैयारी की और पहले प्रयास में ही आइपीएस बन गए। गुरुवार को जैसे ही उनके डीजीपी बनाए जाने की सूचना कानपुर पहुंची तो मां-बाप के चेहरे पर मुस्कान बिखर गई। सुबह से विवि और तमाम डिग्री कालेजों के शिक्षक व रिश्तेदार फोन पर बधाइयां दे रहे हैं।

डीएम अवस्थी अभी तक छत्तीसगढ़ में डीजी नक्सल ऑपरेशन्स का पद संभाल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कई कार्रवाई में नक्सलियों की कमर तोड़ दी और प्रभावित इलाकों में थाने, चौकी व स्कूल खुलवाए। रिश्तेदारों ने बताया कि डीएम अवस्थी के पिता डा. प्रकाश अवस्थी वीएसएसडी कालेज में ¨हदी विभागाध्यक्ष रहे हैं और 1992 में सेवानिवृत्त हुए। वहीं मां पद्मा अवस्थी साधारण गृहणी हैं। परिवार में उनसे छोटे दो भाई शेखर, हितेंद्र केशव व दो बहनें दीप्ति शुक्ला व प्रीति पांडेय हैं। दीप्ति के पति इन दिनों रायपुर में एसपी हैं। मां पद्मा बताती हैं कि माधव (डीएम अवस्थी) महज 24 साल की उम्र में आइपीएस बन गए थे।

छत्तीसगढ़ डीजीपी दुर्गेश माधव अवस्थी जी के माता-पिता जी।

बेटे ने बीएनएसडी कालेज से 12वीं और वीएसएसडी कालेज से बीएससी की। इसके बाद शुगर संस्थान से इंजीनिय¨रग करने के बाद गुजरात के बारडोली शुगर मिल में नौकरी की। लेकिन मां उन्हें आइपीएस बनाना चाहती थीं। इसलिए दिन रात मेहनत करने के लिए कहा और पहली बार में ही सफलता मिली। खुद चुना छत्तीसगढ़ और नक्सल आपरेशन

सतना, रायपुर, इंदौर, छिंदवाड़ा, उज्जैन जैसे जिलों में कप्तान रहने के बाद जब छत्तीसगढ़ राज्य बना तो माधव ने नक्सल प्रभावित होने के कारण उसे ही चुना। मां बताती हैं, जब नाम मांगा गया तो उन्होंने हाथ खड़ा किया। मैंने एक बार कहा था, जोखिम उठाओगे तो सफल होते जाओगे, उसने इसी को ध्येय वाक्य बना लिया। इसलिए वहां जाकर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में कायाकल्प कराया और कई नक्सली सलाखों के पीछे भेजे।

मां पद्मा ने बताया कि 25 जनवरी को उनके पौत्र विश्रुत यानी डीएम अवस्थी के बेटे की शादी है। उन्होंने बताया कि माधव के दोनों बेटे विश्रुत व अच्युत इंजीनियर हैं और इन दिनों विदेश में हैं। पैतृक गांव महाराजपुर के माहौली में कुलदेवी की पूजा व अन्य घरेलू कार्यो के लिए डीजीपी परिवार के साथ कानपुर आएंगे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close