IndiaNewsUttar Pradesh

लखनऊ : ‘हजरतगंज चौराहा’ अब हुआ ‘अटल चौक’, पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी जी को श्रद्धाजंलि

लखनऊ का सबसे प्रमुख चौराहा 'हजरतगंज चौराहा' अब 'अटल चौराहे' के नाम से जाना जाएगा। इस बात की जानकारी शहर की मेयर संयुक्ता भाटिया ने दी है।

हिमानी बाजपेई शुक्ला
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी
लखनऊ स्थित मशहूर हजरतगंज चौराहा अब एक नए नाम से जाना जाएगा। इस चौराहे का नाम पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा गया है और इसे अब ‘अटल चौक’ के नाम से जाना जाएगा।लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने बताया कि लखनऊ वाजेपयी जी का संसदीय क्षेत्र रहा है और कई काउंसलर भी मांग कर रहे थे कि सड़को या चौराहों का नाम पूर्व पीएम वाजपेयी जी के नाम पर रखा जाए।

संयुक्ता भाटिया ने बताया, ‘हम अटल जी की यादों को जिंदा रखना चाहते हैं और एक मेयर के रूप में मैंने ऐसा किया। हमने उनकी याद में एक स्मारक बनाने की योजना के बारे में सोचा है। हमने लखनऊ के सबसे बड़े चौराहे ‘हजरतगंज चौराहे’ का नाम अटल जी के नाम पर करने का निर्णय लिया है।’

इससे पहले यूपी सरकार ने वाजपेयी की राजनीतिक जन्मस्थली बलरामपुर को बड़ा तोहफा दिया। राज्य सरकार ने बलरामपुर में किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) का सैटेलाइट सेंटर बनाने का निर्णय लिया है जिसके लिए पांच करोड़ रुपये के अनुपूरक बजट की भी व्यवस्था की है।

आपको बता दें इससे पहले अवध चौराहे से दुबग्गा मोड़ तक करीब 10 किलोमीटर लंबे सड़क मार्ग का नाम ‘अटल मार्ग’ रखा जा चुका है। पूर्व प्रधानमंत्री की यादों को सहेज कर रखने के लिए लखनऊ में एक संग्रहालय भी बनाया जाएगा। अटल बिहारी वाजपेयी पांच बार लखनऊ से लोकसभा सांसद रहे थे।

बलरामपुर में अटल के नाम पर सैटेलाइट सेंटर
दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की राजनीतिक जन्मस्थली उत्तर प्रदेश के बलरामपुर को योगी सरकार ने एक बड़ा तोहफा दिया है। प्रदेश सरकार ने बलरामपुर में किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) का सैटेलाइट सेंटर बनाने का निर्णय लिया है। इसके लिए सरकार ने अनुपूरक बजट में पांच करोड़ रुपये की व्यवस्था की है। जिला प्रशासन ने सैटेलाइट सेंटर की स्थापना के लिए सदर ब्लॉक के बहदुरपुर में 25 एकड़ जमीन का प्रस्ताव भी शासन को भेज दिया है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close