BusinessNewsPoliticsUttar Pradesh

योगगुरु रामदेव से की CM योगी से बात, UP से बाहर नहीं जाएगा ‘पतंजलि फूड पार्क ‘

अब पतंजलि फ़ूड पार्क यूपी में ही रहेगा। असल में फूड पार्क का अप्रूवल पतंजलि हर्बल के नाम पर हुआ था, जिसको बाद में पतंजलि फ़ूड पार्क कर दिया इसके बाद से समस्या आ रही थी।

हिमानी बाजपेई शुक्ला
लखनऊ। यूपी के सीएम योगी ने योगगुरु रामदेव को मना लिया है। पतंजलि फ़ूड पार्क यूपी में ही बनेगा। दरअसल इस फ़ूड पार्क को मंज़ूरी पतंजलि हर्बल के नाम से मिली थी लेकिन बाद में पतंजलि इसे पतंजलि फ़ूड पार्क कर दिया, जिससे समस्या आ रही थी। यूपी के उद्योग मंत्री सतीश महाना ने बताया कि कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्ताव पास करके ये समस्या सुलझा ली जाएगी।
पतंजलि आयुर्वेद के एमडी व पतंजलि योगपीठ के सह संस्थापक आचार्य बालकृष्ण द्वारा मंगलवार को यूपी के ग्रेटर नोएडा में प्रस्तावित पतंजलि फूड पार्क को यूपी से बाहर ले जाने के ऐलान से सरकार में हड़कंप मच गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद बात की और मामले को बढ़ने से रोका।
बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दो बार रामदेव से बात हुई। जिसके बाद मामला शांत हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि फूड पार्क का प्रस्ताव लगभग पूरा हो चुका है। कुछ छोटी-मोटी अड़चनें हैं जिन्हें भी जल्द निपटा लिया जाएगा। कहा जा रहा है कि सीएम से बात होने के बाद बाबा रामदेव भी संतुष्ट हो गए और फूड पार्क को यूपी से बाहर न ले जाने की बात कही।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामदेव से बात कर मामले को आगे बढ़ने से रोकते हुए अधिकारियों को कैबिनेट की अगली बैठक में ही इससे जुड़े प्रस्ताव को पेश करने का निर्देश भी दिया। सरकार ने पतंजलि आयुर्वेद कंपनी को यमुना एक्सप्रेस वे पर 465 एकड़ जमीन फूड और हर्बल पार्क की स्थापना के लिए दी थी। पतंजलि की ओर से यमुना एक्सप्रेस वे अथारिटी को इस जमीन में से 50 एकड़ जमीन केंद्र की योजना के अनुसार फूड पार्क के लिए ट्रांसफर करने का आग्रह किया था चूंकि कंपनी को जमीन का आवंटन कैबिनेट से हुआ था, इसलिए उससे किसी हिस्से का अलग हस्तांतरण भी कैबिनेट से ही हो सकता है।

इस बीच मंगलवार को बालकृष्ण ने यह कहकर हड़कंप मचा दिया कि प्रदेश सरकार की उदासीनता के कारण केंद्र सरकार ने मेगा प्रोजेक्ट रद्द कर दिया गया है। यह भी कहा कि पतंजलि ने प्रोजेक्ट को अलग ले जाने का फैसला कर लिया है।

सूत्रों ने बताया कि बालकृष्ण के एलान को सीएम ने बेहद गंभीरता से लिया और तत्काल बाबा रामदेव से बात की। उन्होंने अगली कैबिनेट बैठक में ही भूमि हस्तांतरण से जुड़ी अनुमति की कार्यवाही कराए जाने की जानकारी दी

मामले पर अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त डॉ. अनूप चंद्र पांडेय का कहना है, ‘पतंजलि के मेगा फूड पार्क का आवंटन निरस्त नहीं हुआ है। प्रदेश सरकार जमीन हस्तांतरण से जुड़ा निर्णय कैबिनेट की अगली बैठक में कर लेगी। पतजंलि से जुड़े मामले में समस्या का समाधान हो गया है।’

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close