NewsUttar Pradesh

यूपी CM के प्रधान सचिव पर रिश्वत लेने का आरोप लगाने वाले से पूछताछ जारी, दर्ज हुई FIR

आशुतोष त्रिपाठी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रधान सचिव एसपी गोयल पर 25 लाख रुपये की घूस मांगने का आरोप लगा है। इस गंभीर आरोप पर राज्यपाल राम नाईक ने कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। पुलिस ने मामले में अभिषेक गुप्‍ता के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कर ली है। पुलिस लगातार मामले में उससे पूछताछ भी कर रही है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने भी यूपी के मुख्‍य सचिव राजीव कुमार को अभिषेक गुप्‍ता के हरदोई स्थित पेट्रोल पंप की स्‍थापना संबंधी मामले की तथ्‍यात्‍मक जांच कर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं। घूसखोरी का आरोप लगाने वाले अभिषेक गुप्ता को हिरासत में लिए जाने के बाद इंदिरा नगर निवासी उसकी बहन अल्पना महरोत्रा और नाना ओपी गुप्ता शुक्रवार को सीएम आवास भी पहुंचे। दोनों का कहना है कि वे सीएम योगी से मिलकर उनके सामने मामले की निष्पक्ष जांच की मांग रखेंगे।

राज्‍यपाल ने लिखा पत्र
यूपी के राज्यपाल रामनाईक ने भी सीएम योगी को पत्र भेजकर कहा है कि इस मामले में जांच कर समुचित कार्रवाई करें. राज्‍यपाल ने पत्र में लिखा है कि अभिषेक गुप्‍ता ने उन्‍हें ई-मेल भेजकर मामले से अवगत कराया है। उन्‍होंने पत्र में यह भी कहा है कि अभिषेक गुप्‍ता ने उन्‍हें ई-मेल भेजकर आरोप लगाया है कि पेट्रोल पंप के मुख्‍य मार्ग की चौड़ाई बढ़ाए जाने के लिए भूमि उपलब्‍ध करवाए जाने के लिए प्रमुख सचिव एसपी गोयल के जरिये 25 लाख रुपये की मांग की गई है।

आपको बता दें कि लखनऊ के रहने वाले अभिषेक गुप्ता ने यूपी सीएम के मुख्य सचिव एसपी गोयल पर 25 लाख की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। जिसके बाद गुरुवार की रात को हजरतगंज थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया गया था। मुख्यमंत्री के विशेष सचिव सुभ्रांत शुक्ला ने 28 मई को भाजपा के प्रदेश मुख्यालय को सूचित किया था कि इंदिरा नगर निवासी अभिषेक गुप्ता बीजेपी के प्रदेश महामंत्री संगठन और अन्य पदाधिकारियों के नाम लेकर अनुचित कार्य कराने का दबाव बना रहा है।

अभिषेक गुप्ता ने हरदोई जिले की संडीला तहसील केरैसो गांव में पेट्रोल पंप की स्थापना के लिए मुख्य मार्ग की चौड़ाई कम होने के कारण आवश्यक भूमि उपलब्ध कराने की मांग की थी। उनका आवेदन नियमानुसार न होने के कारण खारिज कर दिया गया था।

BJP कार्यकर्ता होने से इनकार
बीजेपी के प्रदेश कार्यालय प्रभारी भारत दीक्षित ने इसे पार्टी की छवि धूमिल करने वाली कार्रवाई बताया। उन्होंने एसएसपी को पत्र लिखकर कहा है कि अभिषेक गुप्ता न तो बीजेपी कार्यकर्ता है और ना ही कार्यालय में कार्यरत है।
सेक्रेटरी ने अभिषेक पर धोखाधड़ी का केस दर्ज करा दिया है। पुलिस उसे हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। लखनऊ के एसएसपी दीपक कुमार ने कहा, “बीजेपी की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई थी जिसके बाद अभिषेक से पूछताछ की जा रही है।”

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close