NewsUttar Pradesh

यूपी पुलिस के 25091 सिपाहियों को प्रमोशन का तोहफा

पुलिस भर्ती बोर्ड ने डीजीपी की पहल पर 25, 091 सिपाहियों (आरक्षी) को मुख्य आरक्षी (हेड कांस्टेबल) के पद पर प्रमोशन के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है।

अखिलेश कुमार
लखनऊ। डीजीपी ओपी सिंह के निर्देश पर पुलिस के 25,091 सिपाहियों (कांस्टेबल) को हेड कांस्टेबल के पद पर प्रोन्नति दे दी गई है। हेड कांस्टेबल के स्तर पर प्रोन्नति की अब तक सबसे बड़ी प्रोन्नति है। प्रोन्नति पाने वालों में वर्ष 1974 से लेकर 2004 बैच तक के सिपाही शामिल हैं।

पुलिस विभाग में हेड कांस्टेबल के स्तर पर पदों की रिक्ति के सापेक्ष यह आदेश जारी किया गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड द्वारा 8 अक्टूबर 2018 को घोषित परिणाम के आधार पर डीजीपी मुख्यालय ने प्रोन्नति का आदेश जारी किया। इससे पहले वर्ष 2016 में 8762 तथा वर्ष 2017 में 5030 कांस्टेबल प्रोन्नत होकर हेड कांस्टेबल बने थे।

पुलिस महकमे में पहली बार इतनी बड़ी तादात में एक साथ सिपाहियों को प्रमोशन दिया गया है। इससे पहले वर्ष-2016 में 8,762 और वर्ष-2017 में 5030 आरक्षियों को मुख्य आरक्षी के पद पर प्रोन्नत किया गया था। बोर्ड द्वारा इससे संबंधित आदेश जारी कर दिया गया है।

डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि विभाग में 1975 से लेकर 2004 तक के काफी सिपाहियों को प्रमोशन नहीं मिला था, जिससे करीब 29,000 मुख्य आरक्षी के पद रिक्त थे। इन्हें भरने के लिए सिपाहियों को प्रमोशन देने का प्रस्ताव पिछले दिनों पुलिस भर्ती बोर्ड को भेजा गया था।

इसमें से ही 25091 सिपाहियों को प्रमोशन की मंजूरी मिल गई है। डीजीपी ने बताया कि इस वर्ष अराजपत्रित श्रेणी के कुल 36,062 पुलिसकर्मियों को भी प्रोन्नत किया गया है। इनमें से 25,091 सिपाहियों के अतिरिक्त करीब 7600 मुख्य आरक्षी से उप निरीक्षक के पद पर और करीब 2100 उप निरीक्षकों को निरीक्षक बनाया गया है। डीजीपी ने बताया कि वर्ष-2016 में कुल 15,803 और वर्ष-2017 में 8,910 अराजपत्रित पुलिसकर्मियों को प्रमोशन दिया गया था।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close