IndiaNewsPoliticsUttar Pradesh

गुलाम नबी ने कहा ‘मोदी इतिहासकार बन गये हैं, कर्नाटक में जीतेगी कांग्रेस’ कानपुर में हुआ हंगामा

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पीएम महंगाई,रोज़गार,पेट्रोल-डीज़ल,किसान,काला धन जैसे मुद्दों पर चर्चा नहीं करते है।

सिमरन गुप्ता
कानपुर नगर।शहर के रागेंद्र स्वरूप ऑडिटोरियम में शनिवार को कांग्रेस का कार्यकर्ता सम्मेलन था। परिसर में 350 से ज्यादा कांग्रेसियों के बैठने की व्यवस्था की गई थी। सुबह ग्यारह बजे जैसे ही प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और यूपी प्रभारी गुलाब नबी आजाद कानपुर पहुंचे तो दो खेमों में बंटी कांग्रेस के एक गुट के कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया। पर दूसरा गुट भी सक्रिय रहा और जैसे ही राज बब्बर ने माइक पकड़ा कांग्रेस के दोनों गुट के नेता आपस में झगड़ने लगे।

कांग्रेस के यूपी के प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने पत्रकारों से बात कर कहा कि कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस की जीत होगी और बीजेपी की नॉर्थ ईस्ट के तीन राज्यों में होने वाले चुनावों में हार होगी. उन्होंने कहा कि सिद्धरमैया की सरकार फिर बनेगी।

पीएम के बारे में गुलाम नबी ने कहा कि मोदी इतिहासकार (हिस्टोरियन) बन गये हैं, वे ग़लत इतिहास का प्रयोग करते हैं. वे महंगाई, रोज़गार, पेट्रोल, डीज़ल, किसान, काला धन जैसे मुद्दों पर चर्चा नहीं करते. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव गुलाम नबी आज़ाद और प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर कानपुर के कांग्रेस सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे थे।

वहीं अमित शाह के बयान पर बोले, ‘कांग्रेस आएगी, आएगी, आएगी, बीजेपी जाएगी, जाएगी, जाएगी’. बीजेपी के दलित प्रेम को छलावा बताते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस आजादी के पहले और बाद से दलितों को शोषण से बचा रही है जबकि बीजेपी दलितों का केवल शोषण कर रही है।

कांग्रेस महासचिव ने पीएम की नेपाल यात्रा पर तंज कसते हुए कहा कि मोदी सिर्फ चुनाव के दिनों में भारत में रहते हैं, बाकी दिन वे दूसरे देशों की यात्रा ही करते रहते हैं. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में उन्होंने कहा कि वे अपना राज्य ही नहीं संभाल पा रहे हैं।

मारपीट और गाली गलौज
प्रभारी और अध्यक्ष के सामने ही मंच पर बैठने को लेकर एआइसीसी सदस्य राहुल सचान तथा पीसीसी सदस्य संदीप शुक्ल से भिड़ गए। इस मौके पर शहर अध्यक्ष को भला बुरा कहने पर कार्यकर्ता भड़क गए और राहुल सचान को पीट दिया। जिसके बाद कार्यकर्ताओं के बीच यही चर्चा रही कि कार्यक्रम को फेल करने की साजिश रची गयी है।

नारेबाजी पर रोक फिर भी नही रुके कार्यकर्ता
प्रदेश प्रभारी ने शुरुआत में ही कहा था कि जिसका नाम लेकर नारेबाजी हुई उसके नंबर कम कर दिये जायेंगे लेकिन जोश से भरे कार्यकर्ता उनकी एक न सुनी और कार्यक्रम के दौरान नारेबाजी होती रही। जिससे आज पूरे कार्यक्रम के दौरान अफरा तफरी का माहौल रहा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close