KanpurNewsUttar Pradesh

मृतक IPS अफसर के ससुर ने सुसाइड पर दिया बड़ा बयान, बेटी-दामाद के रिश्तों को लेकर कही ये बात

आईपीएस अफसर के अंतिम संस्कार में पहुंचे उनके ससुर कहा कि उचित समय आने पर वह आत्महत्या के कारणों को बताएंगे।

हिमानी बाजपेई शुक्ला
लखनऊ। पारिवारिक कलह में जहर खाकर जान देने वाले आईपीएस अफसर सुरेंद्र कुमार दास का आज लखनऊ में अंतिम संस्कार कर दिया गया। मृतक अफसर की पत्नी पर सुसाइड के लिये उकसाने के गंभीर आरोप लग रहे हैं। मृतक के बड़े भाई नरेंद्र कुमार दास ने भी छोटे भाई की पत्नी पर गंभीर आरोप लगाये हैं। दामाद के अंतिम संस्कार में पहुंचे मृतक अफसर के ससुर कहा कि उचित समय आने पर वह आत्महत्या के कारणों को बताएंगे।

लखनऊ पहुंचे मृतक अफसर के ससुर ने उनकी बेटी और दामाद के बीच किसी भी तरह के विवाद से इनकार किया है। उनका कहना है कि कहा कि दोनों बीच सामान्य रिश्ते थे, अब सब बेकार की बातें हो रही हैं। उन्होंने कहा कि सुरेंद्र दास के सुसाइड करने की वजह कुछ और भी हो सकती है, जो अब जांच का विषय है। आज आत्महत्या के कारणों पर बात करने का समय नहीं है, उचित समय आने पर हम इसका कारण भी बताएंगे। मृतक अफसर के ससुर ने कहा कि स्वर्गीय सुरेंद्र दास के पास से जो सुसाइड नोट मिला है, उसमें सुरेंद्र ने रवीना से माफी मांगने की बात कही है, न कि बेटी को दोषी ठहराया है।

पत्नी बोली- मुझे मेरे हाल पर छोड़ दीजिए
मृतक आईपीएस अफसर सुरेंद्र दास की मौत के बाद पहली बार उनकी पत्नी डॉ. रवीना सिंह सामने आईं। लखनऊ पहुंचे शव के अंतिम दर्शन करते वक्त वह दहाड़ें मारकर रो रही थीं। मीडिया के सवालों पर डॉ. रवीना ने कहा कि हाथ जोड़कर कह रही हूं कि मुझे मेरे हाल पर छोड़ दीजिए। आज मेरा सबकुछ चला गया है।

लखनऊ में हुआ अंतिम संस्कार
कानपुर में तैनात आईपीएस अफसर सुरेंद्र दास ने 5 सितंबर को तड़के सल्फास खा लिया था। पांचवें दिन उन्होंने अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस दौरान उन्होंने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था, जिसके बाद उनकी पत्नी पर सुसाइड के लिये उकसाने का आरोप लग रहा है। का जा रहा है कि दांपत्य जीवन से दुखी होकर उन्होंने आत्महत्या जैसा कदम उठाया था। सोमवार को मृतक अफसर का राजधानी में गोमती नदी के भैसाकुंड पर अंतिम संस्कार हुआ।

इस साल दो जांबाज अफसर गंवा दिए :डीजीपी
आईपीएस सुरेन्द्र दास को श्रद्धांजलि देने बैकुण्ठ धाम पहुंचे डीजीपी ओपी सिंह काफी दुखी थे। डीजीपी का यह दर्द उनकी बात में छलक भी गया। उन्होंने कहा कि.. इस साल यूपी पुलिस ने अपने दो जांबाज अफसर गंवा दिए। इसकी भरपाई नहीं की जा सकती है। डीजीपी ने एटीएस के एडीशनल एसपी राजेश साहनी को भी याद किया। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों व कर्मियों को तनाव से बचाने के लिए काउंसलिंग, मेडिटेशन पर ध्यान दिया जाएगा।

डीजीपी ने कहा कि नौजवान आईपीएस सुरेन्द्र दास की जान बचाने की हर संभव कोशिश की गई। लेकिन, ईश्वर की मर्जी के आगे किसी की नहीं चलती। डीजीपी ने शोकाकुल परिवार को ढांढस बंधाया और कहा कि पूरा पुलिस परिवार उनके साथ है।

नेताओं ने भी दी श्रद्धांजलि
आईपीएस सुरेन्द्र दास को श्रद्धांजलि देने के लिए कई नेता भी बैकुण्ठ धाम पहुंचे। प्रदेश सरकार के जल संसाधन व परती भूमि राज्यमंत्री उपेंद्र तिवारी, डुमरियागंज से सांसद जगदंबिका पाल और अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य सरदार परविंदर सिंह ने सुरेंद्र दास को श्रद्धांजलि दी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close