CrimeNewsUttar Pradesh

महिला सुरक्षा के लिए एक हो जाएंगी ये तीन बड़ी सेवाएं : यूपी डीजीपी

प्रदेश में लागू इस आदेश से न सिर्फ जल्दी शिकायत दर्ज होगी बल्कि जल्द से जल्द पीड़ितों को मदद भी मिलेगी।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। महिलाओं व बच्चियों के प्रति बढ़ रहे अपराध पर अंकुश लगाने के लिए योगी सरकार प्रतिबद्ध है और अब इसी कड़ी में प्रदेश में चालू महिला हेल्पलाइन-1090, एंटी रोमियो दस्ता और यूपी-100 सेवाओं को एक साथ जोड़ने की पहल की गई है। इससे न सिर्फ जल्दी शिकायत दर्ज होगी बल्कि जल्द से जल्द पीड़ितों को मदद भी मिलेगी। यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने आज इसकी जानकारी देते हुए कहा कि महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराध पर अंकुश लगाने के लिए हम पूरी कोशिश कर रहे हैं। इस समस्या का समाधान करना हमारी प्राथमिकता है। इसके लिए प्रदेश में पहले से चालूू वूमेन हेल्पलाइन (1090), एंटी रोमियो दस्ता और यूपी-100 सेवाएं को हम एक साथ जोड़ रहे हैं जिससे पीड़ितों को तुरन्त मदद मुहैया कराई जा सके।


जल्दी मिल सकेगी पीड़ितों को सहायता-
यूपी डीजीपी ने ऐसा करने के पीछे की वजह के बारे में बताया कि अब जो भी पीड़ित अपनी शिकायत दर्ज कराना चाहेगा, वह इन तीनों सेवाओं में से किसी एक पर भी फोन करेगा तो उसे तुरन्त मदद पहुंचायी जाएगी। इन तीनों सेवाओं को जोड़ने से उनके बीच बेहतर तालमेल स्थापित होगा, जिससे पीड़ितों को कम समय में मदद मिल सकेगी।

ओपी सिंह ने आगे कहा कि राज्य पुलिस महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और वह यह सुनिश्चित कर के रहेगी कि पाक्सो कानून से जुड़े मामलों की फास्ट ट्रैक अदालतों में सुनवाई हो। पुलिस ऐसे मामलों की फास्ट ट्रैक अदालतों में सुनवाई कराएगी, जिनमें आरोप पत्र दाखिल हो चुका है।

महिलाओं और लड़कियों के प्रति अपराध के 11000 से ऊपर मुकदमे दर्ज
यूपी पुलिस के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, साल 2018 में सिर्फ जनवरी से 31 मार्च के बीच महिलाओं और लड़कियों के प्रति अपराध के करीब 11,249 मुकदमे दर्ज हुए हैं। इनमें बलात्कार के 899, यौन उत्पीड़न के 2892, दहेज सम्बन्धी 502, अपहरण के 3573 और अत्याचार के 3135 मामले शामिल हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close