IndiaUttar Pradesh

‘भारत बंद’ को लेकर देश में हाई अलर्ट, कई शहरों में कर्फ्यू

भारत बंद में दो अप्रैल जैसी हिंसक घटनाएं ना हों, इसके लिए प्रशासन ने कमर कस ली है. संवेदनशील इलाकों में धारा-144 लागू करके बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं।

सौरभ शुक्ला
नई दिल्ली।केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सुरक्षा इंतजाम चाक-चौबंद करने का परामर्श जारी किया है। 2 अप्रैल को दलित संगठनों द्वारा बुलाने भारत बंद के दौरान भड़की हिंसा के खिलाफ कुछ संगठनों ने आज 10 अप्रैल को फिर से भारत बंद का आह्वान किया है। मंगलवार को होने जा रहे इस भारत बंद में दो अप्रैल जैसी हिंसक घटनाएं ना हों, इसके लिए शासन-प्रशासन ने कमर कस ली है. संवेदनशील इलाकों में धारा-144 लागू करके बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं. कई स्थानों पर इंटरनेट सेवाओं को स्थगित कर दिया गया है।

हिंसा पर नपेंगे डीएम-एसएसपी
गृह मंत्रालय के अधिकारी ने मीडिया को यह जानकारी दी कि सभी राज्यों को भारत बंद के संबंध में एडवाइजरी जारी कर दी गई है. गृह मंत्रालय ने कहा कि अपने इलाके में होने वाली किसी भी हिंसा के लिए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे. मंत्रालय ने सभी राज्यों को एक परामर्श जारी किया है कि कुछ समूहों द्वारा सोशल मीडिया पर 10 अप्रैल को बुलाए गए भारत बंद के मद्देनजर आवश्यक एहतियाती कदम उठाए जाएं.

राजस्थान में सुरक्षा के कड़े इंतजाम
राजस्थान के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) एनआरके रेड्डी ने बताया कि बंद को देखते हुए जयपुर शहर में सीआरपीसी की धारा-144 के तहत निषेधाज्ञा लागू की गई है. साथ ही अगले 24 घंटों के लिए जयपुर में इंटरनेट सेवाओं को बंद किया गया है और यह स्पष्ट कर दिया गया है कि शांति भंग करने वालो के खिलाफ सख्त कार्रवाही की जाएगी।

उन्होंने कहा कि बंद के तहत ना तो कोई रैली नहीं निकाली जा सकेगी, ना ही लोग एकत्रित हो सकेंगे. रेंज के पुलिस महानिरीक्षकों, जिला कलेक्टर्स, पुलिस आयुक्तों को ऐसे तत्वों के साथ तुरंत सख्ती से निपटने के साफ निर्देश दिए गए हैं. विभिन्न जिलों को अतिरिक्त पुलिस बल और आरएसी बटालियन की टुकडियां उपलब्ध करा दी गई हैं. सीमा सुरक्षा बल और सीआरपीएफ के जवान तैनात किए गए हैं. हिण्डौन सिटी में कर्फ्यू में मिलने वाली ढील मंगलवार को नहीं दी जाएगी।

भिण्ड और मुरैना में कर्फ्यू
दो अप्रैल को हुए बंद के दौरान मध्य प्रदेश के ग्वालियर और चंबल संभाग में 8 लोगों की मौत हुई थी. उसी घटना को ध्यान में रखते हुए मध्य प्रदेश के अनेक हिस्सों में एहतियात के तौर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. भोपाल के पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) धर्मेंद्र चौधरी ने कहा कि बंद को देखते हुए पुलिस सोशल मीडिया के संदेशों पर विशेष ध्यान दे रही है. सोशल मीडिया पर नफरत भरे संदेशों को फैलाने वाले लोगों की खिलाफ धारा-188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

चंबल पुलिस रेंज के उपमहानिरीक्षक सुधीर लाड ने बताया कि किसी भी अनहोनी घटना को रोकने के लिए भिण्ड में रात 9 अप्रैल की रात 9 बजे से 10 अप्रैल शाम 6 बजे तक कर्फ्यू लगाया गया है. इंटरनेट सेवाएं भी रद्द कर दी गई हैं. आरएएफ और एसएएफ की छह कंपनियां यहां तैनात हैं. दो अप्रैल को बंद के दौरान भड़की हिंसा में भिण्ड जिले में चार लोगों की मौत हो गई थी।

मुरैना के जिलाधिकारी भास्कर लाछाकार ने बताया कि कल बंद के मद्देनजर से शहर में दो अप्रैल से लगाये गए कर्फ्यू के बाद पिछले तीन दिन से सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक दी जा रही कर्फ्यू में ढील नहीं दी जायेगी और मंगलवार के दिन और रात में कफ्यू लागू रहेगा।
जिले में इंटरनेट सेवाएं बाधित रहेंगी तथा सेना को अलर्ट पर रखा गया है और जरूरत पड़ने पर उसे बुलाया जा सकता है। ग्वालियर के तीन थाना इलाकों में भी कर्फ्यू जारी रहेगा।

उत्तर प्रदेश में भी हाई अलर्ट जारी
यूपी के लखनऊ, मेरठ, हापुड़, मुजफ्फरनगर सहित कई शहरों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। हापुड़ और मेरठ को छावनी में बदल दिया गया है। दो अप्रैल के दिन यहां बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी. यहां इंटरनेट सेवाएं भी बाधित कर दी गई हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close