News

बिहार: 3 साल की बच्ची को 30 घंटे बाद बोरवेल से निकाली गई, अस्पताल में भर्ती

बिहार के मुंगेर में एक घर में बोरवेल में गिरी 3 साल की बच्ची को बाहर निकाल लिया गया है। बच्ची घर के बोरवेल में मंगलवार को गिर गई थी, जिसके बाद लगभग 30 घंटे बाद उसे बाहर निकाला गया।

ज्योति झा
मुंगेर। बिहार के मुंगेर में बोरवेल में गिरी तीन साल की मासूम बच्ची सना को सकुशल बचा लिया गया है। एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीम की जी तोड़ मेहनत के बूते सना को बाहर निकाल लिया गया। बचाव दल का सदस्य सना को गोद में लेकर जब बोरवेल से बाहर आया तो नजारा काफी मार्मिक था। लोगों को यकीन नहीं हो रहा था कि तीन साल की बच्ची मौत को मात देकर बोरवेल से बाहर निकल आयी।

मंगलवार को 110 फीट गहरे बोरवेल में फंसी तीन साल की बच्ची को बुधवार शाम लगभग 30 घंटे बाद बाहर निकाला गया। बाहर निकालने के बाद बच्ची को मुंगेर में सदर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है। बच्ची मुंगेर जिले के कोतवाली थाना अंतर्गत मुर्गीयाचक मोहल्ले में अपने घर के आंगन में ही बोरवेल में गिर गई थी। बच्ची को बचाने के लिए तुरंत रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया और बोरवेल में आक्सीजन पहुंचाई गई है और उसे बचाने का प्रयास शुरू हुआ।

बच्ची का नाम सना है। सबसे पहले बचाव दल ने छोटी बच्ची को ताजा हवा की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एक ऑक्सीजन पाइप बोरवेल में पहुंचाई। रिपोर्टों से पता चलता है कि लड़की को बोरवेल में नीचे फिसलने से रोकने के लिए छड़ें लगाई गईं। बच्ची माता-पिता की आवाज का जवाब दे रही थी और उसे खाद्य पदार्थ भी उपलब्ध कराए गए।

लड़की बोरवेल में लगभग 45 फीट की गहराई पर जाकर फंस गई थी। डॉक्टरों की एक टीम की मदद से सिलेंडरों और पाइपों की से ऑक्सीजन बच्ची तक पहुंचाई गई। राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (SDRF) मंगलवार से मौके पर थी और स्पॉट तक पहुंचने के लिए खुदाई कर जगह बनाई गई। इस बीच, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की एक टीम बचाव अभियान में मदद के लिए मौके पर पहुंची।

बच्ची की सलामती के लिए हर तरफ उठे हाथ
मांटेसरी में पढ़ रही तीन साल की बच्ची सना की जीवन रक्षा के लिए दिनभर दुआओं का दौर चलता रहा। सुबह से ही कई मंदिरों में हवन शुरू हो गया। बच्ची की रक्षा के लिए हर समुदाय के लोगों ने दुआ और प्रार्थना की। सना के बोरवेल में गिरने से शिक्षक एवं सहपाठियों ने सना की सलामती के लिए प्रार्थना की वहीं बड़ा महावीर स्थान एवं मुर्गियाचक काली स्थान में हवन-पूजन कर बच्ची की सलामती की दुआ की गई।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close