IndiaPoliticsUttar Pradesh

दो दशकों से बंद पड़ी मुंडेरवां चीनी मिल का CM योगी ने किया शिलान्‍यास

अखिलेश कुमार अग्रहरि
बस्ती। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को बस्ती जिले में मुंडेरवां चीनी मिल और पावर प्लांट का शिलान्यास किया। मुंडेरवा में चीनी मिल और पावर प्लांट करीब 314.09 करोड़ रुपये में बनेगा। फिलहाल इसकी क्षमता 3500 टीडीसी गन्ना पेराई है, जो आने वाले तीन सालों में बढ़ाकर 5000 की जाएगी। इसी तरह 18 मेगावाट के पावर प्लांट को भी बढ़ाकर 27 मेगावाट किया जाएगा। शिलान्यास के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों ने चीनी मिलों को बेचने का काम किया। औने-पौने दामों पर मिलों को बेचने वाले किसानों के हितैषी नहीं हो सकते। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार के सबका साथ सबका विकास को आगे बढ़ाते हुए चीनी मिल दोबारा शुरू की जा रही है। शिलान्यास कार्यक्रम में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार सुरेश राणा, सांसद जगदम्बिका पाल समेत लोग भी शामिल रहे।
J

मुख्यमंत्री ने इस दौरान केन्द्र की मोदी सरकार और सूबे की बीजेपी सरकार को किसान हितैषी बताते हुए विपक्षी दलों पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने किसानों और युवाअें की फिक्र को दरकिनार कर चीनी मिलों को बेच दिया और आज किसानों की बात कर रहे हैं। इसके उलट हमारी भाजपा सरकार पिपराइच और मुंडेरवा चीनी मिल को दोबारा शुरू कर रही है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने मार्च 2017 में गन्ने का 24 हजार करोड़ बकाया और इस सत्र का 17 हजार करोड़ बकाये का भुगतान करा दिया है। चीनी मिलों को भी स्पष्ट निर्देश दिये गए हैं कि किसानों को समय से भुगतान किया जाय। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि 2019 तक सरयू नहर परियोजना पूरी कर दी जाएगी। इस नहर के बन जाने से पूर्वी उत्तर प्रदेश के आठ जिलों के किसानों को फायदा होगा।

इस दौरान उन्होंने अपनी सरकार की जमकर तारीफ की। कहा कि प्रदेश का युवा हताश था। यह हताषा यूपी में बीजेपी सरकार बनने के बाद उम्मीद में बदल गयी और अब हम उनकी उम्मीदें पूरी करने जा रहे हैं। हमारी सरकार अगले दो साल में चार लाख नौकरियां देगी। भर्ती की तैयारी करने वाला योग्य जरूर चुना जाएगा।

पीएसी की 54 कंपनी बहाल कर दी गई हैं। पारदर्शी तरीके से भर्ती होगी। इसके पहले सूबे की युवा शक्ति का लाभ उत्तर प्रदेश को नहीं मिला। दावा किया कि एक जिला एक उत्पाद योजना विकास को नई दिशा देगी। 20 लाख लोगों को उद्यम से जोड़ा जाएगा। कहा कि 22 फरवरी को हुए इन्वेस्टर्स समिट में 4.68 लाख करोड़ के निवेश का रास्ता खुल गया। यह इसलिये हुआ क्योंकि भय का माहौल खत्म हो गया और इस सरकार में सभी को सुरक्षा दी जा रही है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close