PoliticsUttar Pradesh

डिप्टी सीएम ने दलित के यहा खाना खाया, गांव में लगाई रात्रि चौपाल

छुन्नी देवी पर यूपी सरकार हई ऐसा मेहरबान, एक रात में ही बन गईं VIP, और जब डिप्टी सीएम सीएम ने छुए पैर तो…

सौरभ शुक्ला
कानपुर नगर। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने गुरुवार रात घाटमपुर तहसील के पतारा ब्लॉक के छाजा गांव में चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी। डिप्टी सीएम ने किसानों, मजूदरों, युवाओं और महिलाओं के एक-एक बात सुनी और मौके में मौजूद अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई। सभी समस्याओं का जल्द से जल्द निराकरण के आदेश दिए और लोगों को भरोसा दिलाया कि जो भी गांव के विकास में रोड़ा बनेगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
छाजा गांव के सरकारी विद्यालय में रखी गई इस चौपाल में ग्रामीणों से संवाद के दौरान जब डिप्टी सीएम ने एक महिला से पूंछा कि शौचालय और आवास के नाम पर आपसे पैसे तो नहीं मांगे गए तो महिला ने ग्राम प्रधान पर पैसे मांगने का आरोप लगाया।

डिप्टी सीएम केशव मौर्य के सामने कई और शिकायते आई तो उन्होंने डीएम कानपुर को इन मामलों की जांच के आदेश दिए और कहा कि जो लोग दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। डिप्टी सीएम ने ग्रामीणों से पीने का पानी, सरकारी आवास, विधवा पेंशन, बच्चों की पढ़ाई आदि समस्याओं के जल्द निस्तारण का आश्वासन दिया।

मीडिया से बातचीत के दौरान केशव मौर्य ने कहा कि उनकी सरकार जनता के साथ सीधे जुड़कर उनकी समस्याओं का निस्तारण कर रही है। कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिनके लिए उन्होंने जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि शिकायतों से पता चला कि यहां जो सरकारी चीनी मिल थी उसे सपा-बसपा की सरकार ने खत्म कर दिया, साथ ही किसानों की सिंचाई की समस्या के बारे में भी पता लगा। इन समस्याओं के समाधान के लिए वह पूर्ण प्रयास करेंगे।

केशव प्रसाद ने दलित के यहां किया भोजन
चौपाल खत्म होने के बाद केशव प्रसाद व उनके साथ मौजूद विधायकों व सांसद ने गांव की ही दलित महिला छुन्नी देवी के घर भोजन किया। महिला ने बताया कि दाल, चावल, खीर के साथ आलू की सब्जी, भरुआ करेला व कढ़ी बनाई है। उन्हें बहुत खुशी है कि उनके यहां इतने बड़े लोग आएं हैं। भोजन के बाद डिप्टी सीएम ने सरकारी स्कूल में रात्रि का विश्राम किया। शुक्रवार सुबह वह यहां स्वच्छता अभियान में शामिल होंगे।

गिनाई योजनाएं
केशव प्रसाद मौर्य ने एक-एक कर ग्राम स्वराज योजना की उज्ज्वला रसोई गैस योजना, सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री जनधन योजना, प्रधानमंत्री बीमा योजना के गांव में लाभाद्दथयों की संख्या बता कर ग्रामीणों से फीडबैक लिया। उन्होंने गांव में पहले की सरकार की तुलना में अधिक बिजली आने का सवाल पूछा, तो लोगों ने एक स्वर में हां में हां मिलाई। करीब डेढ़ घंटे चली पंचायत में उप मुख्यमंत्री ने गांव में शराब बनाए जाने का सवाल पूछा, तो एकबारगी सन्नाटा पसर गया। जिसके बाद वह एक सख्त शिक्षक के तौर पर शराब के नुकसान बता सख्त शिक्षक की भांति झिड़की देते दिखे। महिलाओं के दरवाजे कूड़ा जमा कर देने की प्रवृत्ति पर उप मुख्यमंत्री एक जिम्मेदार अभिभावक की तरह समझाते नजर आए। बोले, गंदगी से बीमारियां पनपती है। पहले कूड़ा घूर में डाला जाता था। सफाई की आदत डालो। सब कुछ सरकार के भरोसे रहना ठीक नही।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close