NewsPoliticsUttar Pradesh

जो चीज मेरी थी, मैं ले गया, तोड़फोड़ का सबूत दे सरकार : पूर्व CM अखिलेश

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के लिए आवंटित सरकारी बंगले में तोड़-फोड़ के आरोपों पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि जो मेरा सामान था, ले गया।

हिमानी बाजपेई शुक्ला
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के लिए आवंटित सरकारी बंगले में तोड़-फोड़ के आरोपों पर सफाई देने आए अखिलेश यादव ने कहा कि सरकारी बंगले में अभी भी मेरे कुछ सामान पड़े हैं, बीजेपी सरकार उसे लौटा दें। सामान ले जाने के आरोपों पर उन्होंने कहा कि उस बंगले में जो मेरा सामान था, वही ले गया। इसके अलावा उन्होंने इन आरोपों से इनकार किया कि उन्होंने सरकारी बंगले के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ की है। उन्होंने यूपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि आखिर कहां था स्वीमिंग पूल, हमें भी दिखा दीजिए वह पूल। उन्होंने कहा कि जो मेरा सामान था, वह ले गया। उन्होंने कहा कि मैं रिपोर्ट का इंतजार कर रहा हूं।

ऐसी फोटो ली गई 4 केडी की जहां से वो उजड़ा हुआ दिखे,गुस्से और जलन में अंधे हो गए लोग अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में तोड़फोड़ को लेकर छिड़ी बहस के बाद बुधवार को उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस की, जहां वह टोटी लेकर पहुंच गए। ये देखकर सभी हैरान रह गए। अखिलेश ने कहा कि जो टोटी गायब मिली है वही लौटाने आए हैं। ये टोटी बीजीपी को देना चाहता हूं ताकि उनकी नफरत कम हो। अखिलेश ने ये भी कहा कि सीएम आवास में भी बहुत सारे मेरे सामान हैं, वो सब लौटा दें।

अखिलेश ने कहा कि लोग प्यार में अंधे होते हैं लेकिन गुस्से में कितने अंधे होते हैं, वो अब दिख रहा है। जिन्हें नफरत होती है वे ही ऐसा करते हैं। जो सामान मेरा था वही मैं लेकर गया। उन्होंने मीडिया पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कम से कम जो सही था वो तो दिखाते। कहा कि मीडिया बताए कि उनके जाने से पहले सीएम के कौन ओएसडी उस बंगले में गए थे। सरकार के इशारे पर तोड़फोड़ के सवाल पर उन्होंने कहा कि जैसा घर मुझे मिला था, जो भी सरकार ने मुहैया कराया था, वो सब यथावत मौजूद है। मेरे घर में पिछले सवा साल में एक हजार बच्चे आए होंगे। उन सबसे पूछो कि कहां है स्वीमिंग पूल। जो स्वीमिंग पूल है ही नहीं, उस पर खबर बना दी गई कि पूल पर मिट्टी डाल दी गई।
सरकार के इशारे पर तोड़फोड़ के सवाल पर उन्होंने कहा कि जैसा घर मुझे मिला था, जो भी सरकार ने मुहैया कराया था, वो सब यथावत मौजूद है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि मुझे तो सरकार की रिपोर्ट का इंतजार है, जिससे पता चले कि मैंने सराकरी संपत्ति को कितना नुकसान पहुंचाया है।

प्रमुख सचिव पर रिश्वत के मामले में कहा कि पुलिस ने सरकार के इशारे पर दबाव में एक दिन में ही ऐसा काम किया कि उसने स्वीकार कर लिया कि उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है। उन्होंने सरकार को छोटा दिल और मानसिकता वाला बताते हुए कहा कि एक्सप्रेस वे और मेट्रो हमने दिया लेकिन सरकार ने कभी हमारा नाम नहीं लिया। सिर्फ किए गए काम का ही उद्घाटन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये इसलिए ऐसा कर रहे हैं क्योंकि गोरखपुर और फूलपुर की हार ये स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close