CrimeNewsUttar Pradesh

गाजियाबाद: 10 दिन बाद किडनैप किए गए इंजीनियर को छुड़ाया, मुठभेड़ के बाद 3 बदमाश अरेस्ट

दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में इस गिरोह ने किडनैपिंग की कई वारदातों को अंजाम दिया और अब तक करोड़ों रुपए की फिरौती वसूल चुके थे।

आशा चौधरी
गाज़ियाबाद। गाजियाबाद में पुलिस की टीम और एसटीएफ ने मुठभेड़ में तीन बदमाश को गिरफ्तार किया। साथ ही अपहरण इंजीनियर को भी बरामद किया। गाजियाबाद पुलिस और यूपी एसटीएफ की टीम की संयुक्त कार्रवाई में दो बदमाशों को गोली लगी है। इस मठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। सभी को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। पुलिस ने बदमाशों की निशानदेही पर इंदिरपुरम इलाके से किडनैप इंजीनियर राजीव को सकुशल छुड़ा लिया है। पुलिस के मुताबिक बदमाशों ने 23 मई को सिहानी गेट इलाके से एचसीएल के इंजीनियर को किडनैप कर लिया था और उसके परिवार फिरौती मांग रहे थे। एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि गिरोह दिल्ली एनसीआर में किडनैपिंग की कई वारदातों को अंजाम दे चुका है।

दिल्ली-एनसीआर में करते हैं किडनैपिंग
पुलिस ने बताया कि ये गैंग दिल्ली-एनसीआर में किडनैपिंग करता है। दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में इस गिरोह ने किडनैपिंग की कई वारदातों को अंजाम दिया और अब तक करोड़ों रुपए की फिरौती वसूल चुके थे। पुलिस का कहना है कि इस गैंग के दूसरे सदस्यों की तलाश की जा रही है, जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

परिवार से मांगी थी 15 लाख की फिरौती
जानाकारी के मुताबिक, राजीव की पत्नी रेनू को बदमाशों ने मैसेज भेजकर 15 लाख की फिरौती की मांग की। इस मैसेज में बदमाशों ने फिरौती की रकम राजीव के खाते में डालने की बात कही। बदमाशों के बार-बार दबाव बनाने के बाद परिवजनों ने राजीव के खाते में एक लाख रुपये की रकम डलवा दी भी थी।

23 मई को हुआ था अपहरण
आपको बता दें कि राजीव का अपहरण 23 मई को राजनगर एक्सटेंशन में हुआ। 23 मई की रात वो करीब साढ़े आठ बजे वो कैब द्वारा कंपनी से राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पहुंचे। तभी बदमाशों ने उनका अपहरण कर लिया।

जन्मदिन मनाने जा रहे थे राजीव
24 मई को राजीव का 35वां जन्मदिन था। जन्मदिन मनाने के लिए वो बुधवार रात हरिद्वार के लिए निकले थे। राजीव मूलरूप से हरिद्वार के रानीपुर के रहने वाले हैं और परिवार के साथ वर्तमान में नंदग्राम स्थित राधाकुंज में परिवार के साथ रहते हैं। छुट्टियां होने की वजह से बच्चे हरिद्वार गए थे, इसलिए बर्थडे मनाने के लिए वो भी हरिद्वार जा रहे थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close