India

कारगिल विजय दिवस : जब भारतीय सेना ने दिखाया अपना दम, पाकिस्तानी सैनिकों को भागने पर किया था मजबूर

19 साल पहले आज के दिन यानि 26 जुलाई को भारतीय सेना ने पाकिस्तान पर बड़ी जीत हासिल की थी। भारत ने पाकिस्तानी घुसपैठियों पर पीछे हटने पर मजबूर कर दिया था।

मनप्रीत कौर
नई दिल्ली। 26 जुलाई 1999 को भारत ने कारगिल युद्ध में पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई में जीत हासिल की थी। तब से हर साल इस दिन को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। मई 1999 में शुरू हुआ ये यु्द्ध जुलाई 1999 तक चला था, जिसमें देश ने लगभग 527 से ज्यादा वीर जवानों को खोया था, जबकि इस जंग में देश के 1300 से ज्यादा जवान घायल हुए थे। पाकिस्तान ने इस जंग की शुरुआत करते हुए कारगिल की पहाड़ियों पर 5 हजार सैनिकों के साथ घुसपैठ कर कब्जा कर लिया था।

जिसके बाद शुरू हुआ ऑपरेशन विजय, भारत ने पाकिस्तान को पीछे खदेड़ने के लिए इस ऑपरेशन की शुरुआत की। इस युद्ध में भारतीय एयरफोर्स ने अपना दम दिखाया और पाकिस्तान ने जिन जगहों पर कब्जा कर रखा था, वहां बमबारी की।

भारतीय वायुसेना ने दिखाया दम
रिपोर्ट्स के मुताबिक, कारगिल युद्ध में कुल दो लाख पचास हजार गोले दागे गए, जबकि 300 से ज्यादा मोर्टार, तोपों और रॉकेट का इस्तेमाल किया गया। पाकिस्तान को पीछे ढकेलने के लिए भारतीय वायुसेना ने मिग-27 और मिग-29 का इस्तेमाल किया। वायुसेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाकों पर बम गिराए। साथ ही पाकिस्तान के कई ठिकानों पर आर-77 मिलाइल से भी हमला किया गया।

कैसे मिली घुसपैठ की जानकारी
3 मई 1999 को एक चरवाहे ने भारतीय सेना को कारगिल में पाकिस्तानी घुसपैठ की जानकारी दी। जिसके बाद पेट्रोलिंग टीम जब इसका जायजा लेने पहुंची तो पाकिस्तानी घुसपैठियों ने उन्हें पकड़ लिया और 5 सैनिकों की हत्या कर दी। यहीं से कारगिल युद्ध की शुरुआत पूरी तरह से शुरुआत हुई।

भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी सेना पर हमला बोला। जून की शुरुआत तक भारतीय सेना ने कई चौकियों पर वापस से कब्जा करना शुरू कर दिया। 14 जुलाई को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई ने ऑपरेशन विजय की जीत की घोषणा की और 26 जुलाई को उन्होंने विजय दिवस के रूप में मनाए जाने का ऐलान किया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close