PoliticsUttar Pradesh

उन्नाव गैंगरेप: BJP के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को CBI ने किया गिरफ्तार

सीबीआई उन्‍नाव गैंगरेप मामले में पहली कार्रवाई करते हुए सुबह 4.30 बजे भाजपा विधायक को गिरफ्तार कर सीबीआई मुख्‍यालय ले गई।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। यूपी की सियासत को हिलाने वाला उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई ने भाजपा के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर को गिरफ्तार कर लिया है।
गैंगरेप के आरोपी उन्नाव BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उनके लखनऊ इंदिरानगर स्थित आवास से सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। पॉस्को एक्ट के तहत विधायक पर मुकदमा दर्ज किया गया था। कोर्ट में आरोपी विधायक को सीबीआई सुबह सुबह 11 बजे पेश कर सकती है।सीबीआई की लखनऊ इकाई ने बृहस्पतिवार देर रात आरोपी विधायक सेंगर के खिलाफ तीन केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। वहीं, इलाहाबाद हाईकोर्ट में केस की सुनवाई पूरी कर ली थी, जिस पर फैसला आज (शुक्रवार) दोपहर 2.00 बजे सुनाया जाएगा। विधायक के खिलाफ एसआईटी द्वारा दर्ज कराए गए रेप के केस के साथ ही विधायक के भाई अतुल सिंह द्वारा पीड़िता के पिता के साथ मारपीट और जेल में उनकी मौत का मामला शामिल है। सीबीआई एसपी राघवेंद्र वत्स ने यूपी पुलिस से संबंधित कागजात ले लिए हैं।
एसआईटी अपने स्तर से जांच करती रहेगी। अगर कोई सुबूत हाथ लगा तो पुलिस भी अपने स्तर से कार्रवाई करेगी।

फिलहाल सीबीआई लखनऊ मुख्‍यालय में हैं सेंगर
आरोपी भाजपा विधायक सेंगर को घर से गिरफ्तार करने के बाद सीबीआई की टीम उन्‍हें लखनऊ स्थित सीबीआई मुख्‍यालय ले गई। गिरफ्तारी के बाद सेंगर ने कहा कि वो खुद सीबीआई के अधिकारियों से मिलने आया है। आपको बता दें कि सेंगर के खिलाफ गैंगरेप मामले में एफआईआर दर्ज की गई थी। विधायक के खिलाफ पॉक्सो एक्ट में भी मामला दर्ज है।

सरकार किसी को नहीं बचाना चाहती : डीजीपी
पुलिस की भूमिका पर उठ रहे सवालों पर डीजीपी ने कहा कि अब तक तथ्यों व साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई की गई है। आगे भी इसी आधार पर की जाएगी। सरकार किसी को बचाने का प्रयास नहीं कर रही है। एसआईटी ने जिन पुलिस अफसरों को दोषी बताया, उनके खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है।

इलाहबाद हाईकोर्ट आज सुनाएगी अपना फैसला
इस मामले में बुधवार को पीड़िता की शिकायत पर इलाहबाद हाईकोर्ट ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया था। गुरुवार को इस पूरे मामले पर सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को दो बजे तक इस मामले में जवाब देने को कहा था। इस दौरान कोर्ट ने यूपी सरकार से पूछा कि आप एक घंटे में बताएं कि विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं? इसके जवाब में यूपी सरकार ने कहा कि हमारे पास विधायक के खिलाफ सबूत नहीं हैं। उनके बाद हाईकोर्ट ने शुक्रवार दोपहर दो बजे फैसला सुनाने की बातें कही थी। हाईकोर्ट का फैसला आने से पहले सीबीआई ने आरोपी विधायक को गिरफ्तार कर लिया है। विधायक की गिरफ्तारी न होने से योगी सरकार पर ये आरोप लग रहे थे सरकार विधायक के खिलाफ कार्रवाई नहीं करना चाहती है।

विधायक के खिलाफ संगीन धाराओं में दर्ज है केस
इस मामले में पीड़िता की मां की शिकायत पर उन्नाव के माखी थाने में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। विधायक के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 366, 376 ,506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दायर है। गुरुवार को यूपी के डीजीपी ने कहा था कि मामला सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया है इसलिए गिरफ्तारी पर फैसला सीबीआई ही लेगी।

क्या है पूरा मामला?
यह मामला यूपी के उन्नाव जिले का है। यहां एक नाबालिग लड़की ने बांगरमऊ विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया है। यह घटना जून 2017 की है। न्याय की मांग को लेकर आरोप लगाने वाली लड़की ने सीएम योगी के घर के बाहर आत्मदाह की कोशिश भी की थी। इसी महीने की तीन तारीख को पीड़िता के पिता की जेल में संदिग्ध परिस्थियों में मौत हो गई थी। पीड़िता ने विधायक कुलदीर सेंगर पर जेल में हत्या कराने का आरोप लगाया है।

उन्नाव अस्पताल के 2 डॉक्टर सस्पेंड
इसके साथ ही योगी सरकार ने उन्नाव जिला अस्पताल के दो डॉक्टरों को निलंबित कर अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दिए हैं. जेल अस्पताल के भी तीन डॉक्टरों पर भी कार्रवाई की गाज गिरी है जिनपर पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप है।

इसके साथ ही क्षेत्राधिकारी सफीपुर, कुंवर बहादुर सिंह भी लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिए गए हैं। शासन ने एसआईटी के साथ जेल डीआईजी और उन्नाव जिला प्रशासन से भी रिपोर्ट मांगी थी। एक साथ तीन रिपोर्ट मिलने के बाद सरकार ने ये फैसले किए हैं। इसके साथ ही सरकार पीड़िता के परिवार को सुरक्षा भी उपलब्ध कराएगी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close