CrimeIndia

उत्तर प्रदेश : रेप पीड़िता के पिता की जेल में मौत, कल CM आवास पर की थी आत्मदाह की कोशिश

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह की कोशिश करने वाली पीड़िता के पिता की मौत हो गई है। पीड़िता ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गैंगरेप का आरोप लगाया है. आरोप है कि विधायक के भाई और उसके गुर्गों ने पीड़िता के पिता की बर्बर पिटाई की थी. उसे गिरफ्तार कराकर जेल भिजवा दिया था।

आरोप है कि विधायक के दबाव में पुलिस ने एक साल से मुकदमा भी दर्ज नही किया है. न्याय न मिलने पर पीड़ित परिवार मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह करने पहुंचा था.
रविवार को लखनऊ स्थित मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह की कोशिश करने वाली रेप पीड़िता के पिता की सोमवार को उन्नाव जेल में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. परिजनों ने रेप के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर जेल में हत्या कराने का आरोप लगाया है. बता दें 3 अप्रैल को मुकदमा वापस न लेने पर विधायक के भाई ने पीड़िता के पिता को जमकर पीटा था. बुरी तरह घायल होने के बाद भी पुलिस ने पीड़ित पर ही मुकदमा लिख कर जेल भेज दिया था. सोमवार को जेल में हालत ख़राब होने के बाद रेप पीड़िता के पिता को जिला अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

फिलहाल, रेप पीड़िता के पिता की मौत की वजहों का पता नहीं चल सका है। जिला जेल प्रशासन भी मौत पर चुप्पी साधे बैठा है अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की असली वजह का पता चल सकेगा।

गौरतलब है कि रविवार को मुख्यमंत्री आवास 5 कालिदास मार्ग पर बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर कार्रवाई न होने से परेशान गैंगरेप पीड़िता ने आत्मदाह का प्रयास किया था. पीड़िता ने आशंका भी जाहिर की थी कि उसे और उसके परिजनों की हत्या हो सकती है. बावजूद इसके पुलिस ने मृतक की बेटी से गैंगरेप के आरोपियों के खिलाफ न कोई कार्रवाई की और न ही परिवार को सुरक्षा मुहैया करवाई।

आरोप है कि विधायक के दबाव में पुलिस ने एक साल से मुकदमा भी दर्ज नही किया है. न्याय न मिलने पर पीड़ित परिवार मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह करने पहुंचा था।

क्या है मामला?
उन्नाव के माखी इलाके में रहने वाली एक नाबालिग लड़की ने बांगरमऊ के बाहुबली विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पीड़िता के मुताबिक जून 2017 में नौकरी के नाम पर ग्राम प्रधान की पत्नी उसे विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के आवास पर ले गई थीं, जहां विधायक ने उसके साथ रेप किया। पीड़िता ने आरोप लगाया कि न्याय के लिए वह उन्नाव पुलिस के हर अधिकारी के पास गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। पीड़िता ने आरोप लगाया कि उसके बाद से ही विधायक उसपर शिकायत न करने का दबाव बनाते रहे. पीड़िता ने आरोप लगाया कि 3 अप्रैल को दबाव बनाने के लिए उसके पिता से विधायक के भाई अतुल और मनोज ने मारपीट की। विरोध पर उसके पिता के खिलाफ एक फर्ज़ी मुकदमा लिख दिया गया। पुलिस की निष्क्रियता और विधायक की दबंगई के त्रस्त होकर नाबालिग लखनऊ आई और सीएम आवास के बाहर मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह का प्रयास किया।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close