IndiaNewsUttar Pradesh

‘इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक’ का लखनऊ में केंद्रीय गृह मंत्री ने किया शुभारम्भ

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि समाज के अंतिम व्यक्ति का बैंक खाता खोलने के लिए केंद्र सरकार की पहल, डाकिया अब निभाएगा बैंक की भूमिका।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। केंद्र सरकार की बहुप्रतीक्षित ‘इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक’ सेवा का शुभारम्भ 1 सितंबर को हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहाँ इसका उद्घाटन नई दिल्ली में किया, वहीं लखनऊ में इसका शुभारम्भ केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने लखनऊ जीपीओ में आयोजित एक भव्य समारोह में उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल विनय प्रकाश सिंह, लखनऊ परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव, निदेशक मुख्यालय राजीव उमराव की उपस्थिति में किया। इस अवसर पर ‘इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक’ की लख्ननऊ शाखा का फीता काटकर और शिलापट्ट अनावरण कर केंद्रीय गृह मंत्री ने शुभारम्भ किया। प्रथम पांच खाताधारकों को मंच पर क्यू. आर. कार्ड देकर उन्हें सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए एक विशेष आवरण और विरूपण का भी विमोचन किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मोदी सरकार की तमाम उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि डाक विभाग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन में विकास की नई इबारत लिखने को तत्पर है। डाकघरों को आधुनिक टेक्नालॉजी से जोड़ते हुए हाईटेक बनाया जा रहा है। राजनाथ ने कहा कि हमारी सरकार सर्वसमावेशी भावना के तहत ‘सबका साथ, सबका विकास’ के ध्येय के साथ चलती है और इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक इस कड़ी में एक महत्वपूर्ण आयाम है, जो कि वित्तीय समावेशन को और भी सुदृढ़ करेगी। देश भर में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की 650 शाखाओं और 3250 सेवा केंद्रों के माध्यम से समाज के अंतिम व्यक्ति का बैंक खाता खोलने के लिए केंद्र सरकार ने पहल की है, जिससे साल के अंत तक सभी डाकघरों को जोड़ दिया जायेगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि जनसामान्य का विश्वस्त डाकिया अब एक बैंक की भूमिका निभाएगा और बैंकिंग सुविधाओं से वंचित तथा अल्पबैंकिंग सुविधाओं वाले उन लाखों भारतीयों को वित्तीय सेवाएं मुहैया कराएगा, जो कि अब तक इन सेवाओं से वंचित रहे हैं। दूरदराज के क्षेत्रों में रह रहे लोगों की सुविधा के लिए तमाम जनकल्याणकारी योजनाओं का पैसा सीधे उनके खाते में जायेगा, जिससे एक पारदर्शी व्यवस्था बनेगी।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल विनय प्रकाश सिंह ने उत्तर प्रदेश में डाक सेवाओं के बढ़ते कदम की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य भर में इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की 73 शाखाएं और 292 सेवा केंद्रों का शुभारम्भ किया जा रहा है। इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक विभिन्न माध्यमों द्वारा कार्य करेगा, जिनमें काउंटर प्रचालन, द्वार पर सेवा, मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग आदि शामिल होंगे। राजनाथ ने कहा कि डाक विभाग की भूमिका में तेजी से परिवर्तन हो रहा है। बचत, बीमा, ई-कॉमर्स जैसे क्षेत्रों में डाकघर नवीन टेक्नालॉजी के साथ लोगों की जरूरतें पूरा कर रहे हैं। अब लोग डाकघर के अपने बचत खातों को आई.पी.पी.बी. से लिंक करके भी इसका फायदा उठा सकेंगे। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तहत तमाम सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का पैसा सीधे लोगों के खाते में पहुँच जायेगा।

लखनऊ परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर कहा कि डिजिटल हो रही दुनिया में अब चिट्ठी बाँटने वाला डाकिया ‘मोबाइल एप’ के माध्यम से लोगों के घर पर दस्तक देगा और “आपका बैंक, आपके द्वार” की संकल्पना को साकार करेगा। डाक विभाग देश के सबसे पुराने विभागों में से एक है, जो कि तमाम महत्वपूर्ण घटनाओं का साक्षी रहा है और अब वित्तीय समावेशन में भी अपनी अहम भूमिका निभाएगा।

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में किये जा रहे राष्ट्रव्यापी शुभारम्भ समारोह का भी लाइव प्रसारण किया गया। इस दौरान इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से डाकिया की बदलती भूमिका को रेखांकित करते हुए एक वृत्त चित्र भी लोगों को दिखाया गया, जिसकी थीम थी ‘डाकिया बैंक लाया।’

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की केबिनेट मंत्री प्रो. रीता बहुगुणा जोशी, मोहनलालगंज सांसद श्री कौशल किशोर, मेयर संयुक्ता भाटिया, निदेशक मुख्यालय राजीव उमराव, प्रवर डाक अधीक्षक शशि कुमार उत्तम, चीफ पोस्टमास्टर योगेंद्र मौर्य, इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की सीनियर मैनेजर स्मृति श्रीवास्तव सहित तमाम जनप्रतिनिधिगण, विभिन्न विभागों के अधिकारी–कर्मचारीगण, बचत अभिकर्ता, इत्यादि उपस्थित रहे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close