IndiaTravel

आध्यात्मिक यात्राओं पर जाना पसंद करते हैं भारतीय लोग, युवा वर्ग भी हुआ शामिल

अजीत कुमार राय
नई दिल्ली। इस बार गर्मी के मौसम में अन्य शहरों की तुलना में वाराणसी और पुरी जैसे मशहूर धार्मिक स्थलों में होटलों की बुकिंग ज्यादा हो रही है। पुरी, वाराणसी, तिरुपति और शिरडी जैसे तीर्थ स्थानों के साथ आध्यात्मिक प्रेरणादायक स्थल भारतीय पर्यटन उद्योग का एक सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बनकर उभरा है। ट्रैवल मार्केट प्लेस इक्सिगो द्वारा की गई एक स्टडी में यह बात सामने आई है। इस स्टडी के मुताबिक, ज्यादा से ज्यादा भारतीय अपनी धार्मिक जड़ों से जुड़ने के लिए सफर कर रहे हैं। आध्यात्मिक पर्यटन यानी स्पिरिचुअल टूरिज्म के बढ़ने के साथ

पुरी-वाराणसी जैसे शहरों में बढ़ी होटल बुकिंग
इस स्टडी में यह भी खुलासा हुआ कि पुरी में 60 प्रतिशत, वाराणसी में 48 प्रतिशत, तिरुपति में 34 प्रतिशत और शिरडी में 19 प्रतिशत होटल बुकिंग में मासिक वृद्धि दर्ज की गई है। टूरिस्ट, धार्मिक स्थानों की यात्रा के लिए औसतन दो दिनों की छोटी योजना बनाते हैं।

आध्यात्मिक यात्रा के प्रति युवाओं का रुझान
‘आध्यात्मिक पर्यटन तेजी से बढ़ रहा है। आध्यात्मिक यात्रा को अब भारत में एक अनूठे ट्रैवल ट्रेंड के रूप में माना जा रहा है। यह देखकर बहुत अच्छा लग रहा है कि हमारे देश में सांस्कृतिक अनुभव को एक्सप्लोर करने की दिशा में युवाओं का रुझान बढ़ रहा है।’भारतीय युवा भी आध्यात्मिक पर्यटन में ज्यादा पसंद कर रहे है।

बजट होटल में रहना पसंद करते हैं इंडियन टूरिस्ट
रहने के विकल्पों की बात करें, तो भारतीय कम बजट वाले होटल में रहना पसंद करते हैं। लगभग 82 प्रतिशत टूरिस्ट वाराणसी के बजट होटल्स में रहना पसंद करते हैं। इसके बाद शिरडी (78 प्रतिशत), तिरुपति (68 प्रतिशत) और पुरी (73 प्रतिशत) का नंबर आता है। 32 प्रतिशत भारतीय तिरुपति के 4/5 सितारा होटल में रहना पसंद करते हैं, जबकि पुरी में ऐसे पर्यटकों की संख्या 27 प्रतिशत है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close