NewsUttar Pradesh

अपराधियों का कोई मानवाधिकार नहीं होता : CM योगी आदित्यनाथ

सीएम ने कहा कि लक्ष्य प्राप्ति के लिए बाहरी और आंतरिक शुद्धि जरूरी है। पुलिस का अर्थ है परित्राणाय साधूनाम विनाशाय च दुष्कृताम। पीड़ितों को बिना भेदभाव के न्याय दिलाया जाए।

सौरभ शुक्ला
लखनऊ। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस की एनउंटर पॉलिसी पर मुहर लगाते हुए कहा कि अपराधियों का कोई मानवाधिकार नहीं होता है। कोई भी संगठन मानवाधिकार के नाम पर अपराधियों व आतंकियों की पैरवी न करें। पुलिस वीक के दौरान शुक्रवार को यूपी 100 के मुख्यालय में आयोजित वरिष्ठ अधिकारियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए योगी ने कहा कि यूपी पुलिस और सरकार को बदनाम करने की बहुत कोशिश हुई। लेकिन बीते पौने दो साल में देश और विदेश में उत्तर प्रदेश की छवि सुधारने में यूपी पुलिस ने अहम भूमिका निभाई है। नेपाल व म्यांमार ने भी यूपी पुलिस की कार्रवाई की तारीफ की है।

सीएम ने कहा कि राजनीतिक विद्वेष न हो तो आमलोग भी कह रहे हैं कि वे सुरक्षित हैं। पहले घरों में घुसकर महिलाओं से छेड़खानी होती थी। हमारी सरकार ने सुरक्षित माहौल बनाया। अब गांव की महिला से लेकर शीर्ष उद्योगपति भी सुरक्षा का अहसास कर रहे हैं। रतन टाटा ने मुझसे कहा था कि अब यूपी को लेकर परसेप्शन बदला है। सीएम ने कहा कि मानवाधिकारों को लेकर हमारे खिलाफ लिखा गया, लेकिन आमलोगों ने हमारी तारीफ की।

एक घंटे 40 मिनट के संबोधन में सीएम ने पुलिस की तारीफ तो की लेकिन फील्ड में न निकलने वाले अफसरों की क्लास भी ली। उन्होंने कहा कि वर्दी का अर्थ खाली ऑफिस का काम नहीं है। एडीजी और आईजी को फील्ड में निकलना चाहिए। अधिकारी फील्ड पर लोगों की समस्याएं नहीं सुनते हैं इसलिए लोग मदद के लिए मेरे पास आते हैं। पौने दो साल बाद भी मुझे अधिकारियों को बार-बार फोन क्यों करना पड़ता है? अधिकारी फील्ड में जाएंगे तो सार्थक परिणाम मिलेंगे। पुलिस लाइंस, आवास और थानों की गंदगी को लेकर सीएम ने कहा कि एडीजी व आईजी को समय-समय पर निरीक्षण करना चाहिए। लक्ष्य प्राप्ति के लिए बाहरी और आंतरिक शुद्धि जरूरी है। पुलिस का अर्थ है परित्राणाय साधूनाम विनाशाय च दुष्कृताम। पीड़ितों को बिना भेदभाव के न्याय दिलाया जाए।

सीएम ने कहा कि एंटी रोमियो स्क्वाड केवल तात्कालिक परिस्थिति के लिए नहीं था। ये निरंतर चलने वाली पुलिसिंग का हिस्सा है। यह स्क्वायड अगर ढंग से काम करे तो महिलाओं के खिलाफ अपराधों पर असर पड़ेगा।

योगी ने रिपोर्ट लीक होने के मामलों में नाराजगी जताते हुए कहा कि कई बार रिपोर्ट पूरी नहीं होती और मीडिया को मिल जाती है। ऐसा नहीं होना चाहिए। मीडिया को सही तथ्य दीजिए। फिर भी अगर कोई गलत तथ्य दिखाता है तो नोटिस देकर उसका आधार पूछिए।

उन्होंने कहा कि पुलिस के हर अधिकारी को चाहिए कि वह प्रतिदिन कम से कम दो घंटे आम लोगों से मिले और उनकी समस्याओं को सुने। उनकी शिकायतों का प्रभावी तरीके निस्तारण किया जाए। सीएम ने कहा कि पुलिस के गौरवशाली इतिहास को पुलिस वीक के माध्यम से देश के समक्ष रख रहा हूँ, यह अत्यंत प्रसन्नता का विषय है। मुझे आप सबके बीच में आकर स्वयं भी प्रसन्नता की अनुभूति हो रही है। पुलिस वीक के अवसर पर मैं सभी अधिकारियों को हृदय से बधाई से देता हूँ और प्रदेश पुलिस अपनी गौरवशाली परम्परा को इसी प्रकार से आगे बढ़ाती रहे, यही कामना करता हूँ।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close