NewsPoliticsUttar Pradesh

अटकी, लटकी और भटकी परियोजनाओं को पूरा कर रही है हमारी सरकार : PM मोदी

अखिलेश कुमार
वाराणसी/मिर्जापुर। पूर्वांचल दौरे के दूसरे दिन रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिर्जापुर में 4008 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस दौरान पीएम मोदी ने जनसभा में अपनी सरकार की चार साल की उपलब्धियां और पिछली सरकारों की नाकामियां गिनाईं।

पीएम ने कहा कि हमारी सरकार तो अटकी, लटकी और भटकी परियोजनाओं को पूरा कर रही है। 300 करोड़ रुपये की बाणसागर परियोजना लगभग साढ़े तीन हजार करोड़ लगाने के बाद पूरी हुई। इससे किसानों को तो नुकसान पहुंचा ही, देश के दो दशक भी बर्बाद हो गए।

पीएम मोदी ने कहा कि बाणसागर परियोजना से सिर्फ मिर्जापुर का ही फायदा नहीं होगा। इससे इलाहाबाद समेत इस पूरे क्षेत्र की डेढ़ लाख हेक्टेयर जमीन को सिंचाई की सुविधा मिलने जा रही है। अगर यह प्रोजेक्ट पहले मिल गया होता तो जो लाभ अब आपको मिलेगा, वह पहले से मिलने लगता।

अन्य अटकी परियोजनाओं में से सरयू नहर परियोजना और मध्य सागर परियोजना पर भी तेजी से काम चल रहा है। किसानों के नाम पर सरकारें आधी-अधूरी योजनाएं बनाती रही हैं, आप सब भुक्तभोगी हैं।

प्रधानमंत्री ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के संसदीय क्षेत्र में उनके पिता का स्मरण किया। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के लिए गरीबों, वंचितों और शोषितों के लिए जो सपने सोने लाल पटेल जैसे कर्मशील लोगों ने देखे थे, उनको पूरा करने की तरफ हम निरंतर आगे बढ़ रहे हैं।

पिछले दो दिन में विकास की अनेक योजनाओं को पूर्वांचल की जनता को समर्पित करने या फिर नए काम शुरू करने का अवसर मुझे मिला है।

पानी बचाने का लिया किसानों से वचन
पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में एक और अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट आई है, जिसमें कहा गया है कि बीते दो वर्षों में भारत में पांच करोड़ लोग भीषण गरीबी से बाहर निकले हैं। इसमें सरकार की योजनाओं का बड़ा प्रभाव है, जो गरीबों का खर्च कम कर रही है। निश्चिंतता का यही भाव उन्हें नए अवसर भी दे रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि पानी हमारी अमूल्य संपदा है। इसकी एक-एक बूंद की बचत करनी होगी। आप लोग मां की नगरी में रहने वाले हैं। आप मुझे वचन दीजिए कि जैसे आप मां के प्रसाद के एक-एक कण को अमूल्य मानते हुए उसका उपयोग करते हैं, उसी तरह बाणसागर परियोजना की शुरूआत के बाद सिंचाई के पानी की एक-एक बूंद को बचाएंगे।

पीएम मोदी ने कहा, हम 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करना चाहते हैं। किसान खेत की मेड़ पर बाड़ लगाकर उतनी जगह बर्बाद कर देते हैं। आप चाहें तो मेड़ पर बांस की खेती करें और मुनाफा कमाएं।

हमने नियम बदलकर बांस को वृक्ष से घास बना दिया। अगरबत्ती और पतंग के लिए बांस विदेश से क्यों लाएं। दो साल में हमारे किसान इस स्थिति को बदल सकते हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close